वाहनों की कमी के चलते डिपो में खड़े 10 साल पुराने वाहनों को दुरुस्त कराने में जुटा निगम

MEERUT। शहर की सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने में वाहनों की कमी निगम के आडे़ आ रही थी। जिसके चलते निगम अब इस कमी को दूर करने के लिए डिपों में खड़े 10 साल पुराने कबाड़ वाहनों को सुधारने की कवायद में जुट गया है। इतना ही नहीं गाडि़यों को जल्द से जल्द ठीक कराकर फॉगिंग की व्यवस्था में भी सुधार करने की तैयारी निगम ने शुरू कर दी है।

वाहनों की कमी

दरअसल, शहर में नाला सफाई से लेकर कूड़ा उठाने, फॉगिंग और डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का काम जोरों पर चल रहा है। निगम की अधिकतर गाडि़यां डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन और खत्तों व सड़कों से कूड़ा उठाने में जुटी हुई हैं। ऐसे में गाडि़यों की कमी के चलते नालों की सिल्ट उठाने में बाधा आ रही थी। इस समस्या के कारण कई-कई दिनों तक नालों की सिल्ट सड़क पर ही पड़ी रहती थी। जिसके चलते अब डिपो में खड़े कंडम वाहनों की मरम्मत का काम भी निगम ने शुरू कर दिया है।

दो दर्जन से अधिक गाडि़यां

निगम अपने डिपो में खड़ी दो दर्जन से अधिक गाडि़यों की मरम्मत कराने में जुट गया है। मगर केवल ऐसी गाडि़यों की तलाश की जा रही है, जिनमें कम खर्च में चालू किया जा सके।

नालों की सिल्ट को उठाने के लिए गाडि़यों और मैन पावर दोनों की कमी है। ऐसे में जो छोटी मोटी कमी वाली गाडि़यां डिपो में खड़ी हैं, उनको प्रयोग मे लाया जाएगा।

गजेंद्र सिंह, नगर स्वास्थ्य अधिकारी