jamshedpur@inext.co.in

JAMSHEDPUR: साली और सास-ससुर को मौत के घाट उतारने वाले कातिल दामाद प्रलय दास को बुधवार को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई. सिदगोड़ा ट्यूब बारीडीह कॉलोनी के चर्चित ट्रिपल मर्डर केस में फैसला सुनाने में छह साल लगे. आरोपी प्रलय बिरसानगर जोन संख्या तीन बी का रहनेवाला है. अपर सत्र न्यायाधीश-13 की अदालत में बुधवार को न्यायाधीश ने 20 हजार रुपये का अर्थदंड देने का आदेश भी दिया. 27 नवंबर 2012 को प्रलय ने संपत्ति के लालच में ससुर रतन चटर्जी, सास श्यामली और साली पियाली चटर्जी की अपने सहयोगियों के साथ गला रेत कर हत्या कर दी थी.


इसलिए की थी हत्या

आरोपी प्रलय ने रतन चटर्जी की बड़ी पुत्री शिवानी से प्रेम विवाह किया था. वह बारीडीह में फूल बेचता था. उसकी नजर ससुर की संपत्ति पर थी. जिसे देने से रतन चटर्जी ने इन्कार कर दिया था. इस कारण उसने पूरे परिवार की हत्या कर दी थी. रतन चटर्जी टाटा स्टील के सेवानिवृत्त कर्मचारी थे. उन्हें सेवानिवृत्ति के बाद काफी रुपये मिले थे. हत्या में 12 लोगों ने गवाही दी थी. कपड़ों पर लगे खून के धब्बों से प्रलय का जुर्म साबित हुआ.


पुलिस को था शक

28 नवंबर 2012 को पियाली के यहां ट्यूशन लेने के लिए कुछ छात्र पहुंचे थे. छात्रों के दरवाजा खटखटाये जाने पर जब दरवाजा नहीं खुला तो छात्रों ने खिड़की से झांककर देखा. उन्होंने अंदर देखा कि वहां चारों ओर खून पसरा हुआ था. आस-पास के लोगों को बुलाकर मुख्य गेट का ताला तोड़ कर अंदर गए तो देखा कि श्यामली और पियाली का शव बिस्तर पर पड़ा हुआ था. रतन जमीन पर गिरे थे तथा पीछे का दरवाजा खुला हुआ था. खोजी कुत्ते की मदद ली गई, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला. पड़ोसियों ने भी उस दौरान बताया कि वहां कोई शोर-शराबा नहीं हुआ. हत्या के दिन से ही पुलिस को शक था कि हत्या को किसी करीबी ने ही अंजाम दिया है.


तीन आरोपी हुए बरी

22 दिसंबर को 2012 को पुलिस ने प्रलय को गिरफ्तार किया था. पुलिस की कड़ी पूछताछ के हत्याकांड के 20 दिन बाद शिवानी ने मामले का खुलासा किया था. शिवानी ने पुलिस को बताया कि उसके पति ने उन्हें हत्या करने की बात बता दी थी. प्रलय ने हत्या में टिंकू, अमर और राहुल की संलिप्तता बताई थी. 22 जनवरी 2013 को टिंकू को गिरफ्तारी हुई. राहुल व अमर ने 17 जनवरी को सरेंडर किया. अदालत ने 12 जून 2018 को टिंकू, अमर और राहुल को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया था.


दी थी हत्या की जानकारी

प्रलय दास ने सास-ससुर और साली की हत्या कर देने की जानकारी पत्नी शिवानी को दे दी थी, लेकिन उसने इसकी जानकारी किसी को नहीं दी. पुलिस को दोनों गुमराह करते रहे. हत्या के दिन प्रलय दास अपनी पत्नी के साथ ससुराल आया था. शिवानी ने दोपहर का भोजन किया. प्रलय दास बिना खाए ही पत्नी के साथ वापस बिरसानगर आवास लौट गया. रात में वह गायब हो गया. इसी बीच उसने सास-ससुर और साली की हत्या कर दी. इसके बाद 28 दिसंबर की सुबह घर लौट आया. कमरे में सो गया. पत्नी को शराब के नशे में उसने बताया कि उसके घर वालों को उसने काट डाला है. सुबह जब पुलिस रतन चटर्जी के घर पर पहुंची तो प्रलय दास भी ससुराल पहुंचा. वह 20 दिन वह पुलिस को गुमराह करता रहा.