मंत्रिमंडल में क्षेत्रीय संतुलन
नए सीएम टीएसआर ने अपने मंत्रिमंडल में क्षेत्रीय संतुलन को बनाने की भरपूर कोशिश की है। कुमाऊं मंडल से चार मंत्री बनाए गए हैं तो गढ़वाल से पांच। गढ़वाल और कुमाऊं के मैदानी क्षेत्रों का भी सुंतलन साधा गया है। सीएम टीएसआर खुद देहरादून की मैदानी सीट डोईवाला से हैं तो हरिद्वार से मदन कौशिक को कैबिनेट में शामिल किया है। इसी तरह कुमाऊं की दो मैदानी सीटों से दो कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं। ऊधम सिंह नगर की गदरपुर सीट से अरविंद पांडे और बाजपुर से यशपाल आर्य को कैबिनेट में जगह दी गई है।

जातीय संतुलन का भी ख्याल
मंत्रिमंडल में जातीय संतुलन का भी ध्यान रखा गया है। दो दलित चेहरों यशपाल आर्य और रेखा आर्य को मंत्रिमंडल में रखा गया है तो चार ब्राह्मण और चार ठाकुर चेहरे (सीएम समेत) भी मंत्री बने हैं। प्रकाश पंत, सुबोध उनियाल, अरविंद पांडे और मदन कौशिक ब्राह्मण कोटे से मंत्री बनाए गए हैं तो डॉ। हरक सिंह रावत, सतपाल महाराज और धन सिंह रावत ठाकुर चेहरे हैं।

उत्तराखंड में टीएसआर की सरकार
ये बने कैबिनेट मंत्री
-सतपाल महाराज
-प्रकाश पंत
-डॉ. हरक सिंह रावत
-मदन कौशिक
-यशपाल आर्य
-सुबोध उनियाल
-अरविंद पांडे

ये बने राज्य मंत्री
-रेखा आर्य
-डॉ. धन सिंह रावत

आधी कैबिनेट कांग्रेस की!
शनिवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कैबिनेट भी बना ली। उनके साथ उनकी सरकार के 9 मंत्रियों ने भी शपथ ली है। हालांकि राज्य में सीएम के अलावा 11 मंत्रियों का कोटा है। जिन 9 मंत्रियों ने शपथ ली उनमें से 5 ऐसे हैं जो कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। इनमें सतपाल महाराज, डॉ। हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल, यशपाल आर्य और रेखा आर्य शामिल हैं। बीजेपी से पुराना नाता रखने वाले 4 को ही मंत्री बनाया गया है।

उत्तराखंड में टीएसआर की सरकार
अब की बार फिर रावत सरकार!
कांग्रेस की हरीश रावत का नारा था कि अब की बार रावत सरकार। कांग्रेस बुरी तरह सूबे में चुनाव हारी, लेकिन इसके बाद भी शपथ ग्रहण तक कांग्रेस की तरफ से यही नारे लगते रहे। बीजेपी के मुख्यमंत्री के नाम के ऐलान के ठीक बाद शुक्रवार को हरीश रावत ने कहा कि अब की बार भी रावत सरकार ही आई है। उनका कहना था कि बीजेपी ने उनके नारे को पचास फीसदी तब ही पूरा कर दिया जब त्रिवेंद्र सिंह रावत के नाम का सीएम के लिए ऐलान किया। मुख्यमंत्री के अलावा कैबिनेट में तीन रावत शामिल किए गए हैं। इनमें सतपाल सिंह रावत (महाराज), डॉ। हरक सिंह रावत और डॉ। धन सिंह रावत शामिल हैं।

13 मिनट में 10 शपथ
सीएम के शपथग्रहण के लिए होने वाले समारोह की तैयारियां दो दिन से जोरशोर से चल रही थीं। ये समारोह महज 13 मिनट में निपट गया। पीएम मोदी के मंच पर पहुंचते ही शाम 3 बजकर 8 मिनट पर शपथ समारोह शुरू हुआ। सबसे पहले सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शपथ ली और उनके बाद एक-एक कर 9 मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। ये पूरा कार्यक्रम 13 मिनट में निपट गया।

कुछ नहीं बोले मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी जब परेड ग्राउंड पर बने शपथग्रहण समारोह के मंच पर पहुंचे तो पूरा प्रांगण मोदी-मोदी के नारों से गूंज उठा। पहले कार्यक्रम तय था कि मोदी जनता को कुछ मिनट संबोधित करेंगे, लेकिन शपथ निपटते ही मोदी ने न कुछ कहा और न किसी और नेता ने।पीएम मोदी ने समारोह निपटने के बाद मंच से जनता को हाथ जोड़े और अभिनंदन कर लौट गए।

National News inextlive from India News Desk

National News inextlive from India News Desk