अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ी रोडवेज की व्यवस्थाएं

बहनों की फ्री यात्रा की सेवा देना बना रोडवेज के लिए आफत

Meerut . मुख्यमंत्री योगी के आदेश पर रक्षाबंधन पर बहनों को फ्री यात्रा का दावा परिवहन निगम के लिए मुसीबत बन गया. फ्री सेवा तो दूर बहनों को अपने भाइयों तक पहुंचने के लिए बसों तक की सुविधा नही मिल सकी. बसों की कमी के चलते सीट पाने के लिए बहनें बस अड्डों पर पसीना बहती रहती रही. हालत यह रही कि कई रुट पर घंटों इंतजार के बाद भी बस मिल रही थी वहीं बस के आते ही उसमें सीट पाने के लिए बहनों का काफी जद्दोजहद करनी पड़ी.

बसों के दावे फेल

रोडवेज ने रक्षाबंधन पर बहनों को भाइयों के घर तक पहुंचाने के लिए रोडवेज के सारे इंतजाम बेकार साबित हो गए. भैसाली डिपो और सोहराबगेट से सभी प्रमुख रुट समेत देहात रुट पर बसों की अतिरिक्त संख्या और फेरे बढ़ाने की रोडवेज की व्यवस्था बेमानी सी रही. दरअसल, चालक-परिचालक की कमी के चलते बसें वर्कशॉप और डिपो में खाली खड़ी रही, जिस कारण से अधिकतर देहात रुट पर बहनों को बसों की किल्लत से जूझना पड़ा. वहीं रोडवेज के अधिकारी अपने भरपूर प्रयास के बाद भी बसों की उपलब्धता कराने में असफल रहे.

जाम से बिगड़ी व्यवस्था

दरअसल, रक्षाबंधन के चलते अधिकतर शहरों और मार्गो पर जाम की स्थिति बनी रही. जिस कारण से दिल्ली, गाजियाबाद, मुजफ्फनगर, बरेली, मुरादाबाद, बागपत आदि शहरों में जाने वाली बसें अपने पहले फेरे में ही जाम में फंस गई और तय समय से घंटों बाद तक भी वापस डिपो में नही पहुंच सकी. बसों की वापसी ना होने के कारण दोपहर बाद तक डिपो में बसों की कमी हो गई जिससे यात्रियों को घंटों तक बसों का इंतजार करना पड़ा.

ईटीएम भी हुआ फेल

फ्री यात्रा के लिए बहनों को जीरो टिकट जारी करने में रोडवेज का ईटीएम भी फेल हो गया. ईटीएम के साफ्टवेयर अपडेट करने में जुटे निगम को सफलता नही मिल सकी. वहीं 48 और 24 घंटे सफर वाली बसों की देर रात तक वापसी नही हो सकी जिस कारण से उन बसों के ईटीएम भी अपडेट नही हो सके. इस कारण से अधिकतर बसों में परिचालकों ने हाथ से ब्लैंक टिकट जारी कर बहनों को फ्री सफर का लाभ दिया.

भड़क उठे पूर्व मंत्री

रोडवेज बसों में निशुल्क यात्रा कराने की हकीकत जानने के लिए पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने सोहराब गेट बस अड्डे पहुंचकर व्यवस्थाओं का औचक निरीक्षण किया. पूर्व मंत्री ने डिपो पर बसों की कमी और यात्रियों को परेशानियों को देखते हुए एआरएम रोडवेज से नाराजगी जताई. बसों का इंतजार कर रहे यात्रियों को तुरंत बस उपलब्ध कराने और सभी रुट पर बसों की व्यवस्था करने का आदेश दिया. मंत्री ने रोडवेज के रिकार्ड और रजिस्टर में चालक परिचालकों की उपस्थिति और बसों की उपलब्धता की भी जांच की.

त्योहार के दौरान यात्रियों की संख्या का लोड काफी अधिक रहता है ऐसे में व्यवस्थाओं पर प्रभाव पड़ता है. बावजूद इसके अधिकतर रुट पर समय से बस उपलब्ध कराई गई हैं.

- नीरज सक्सेना, आरएम, रोडवेज