allahabad@inext.co.in
ALLAHABAD: एकदम फिल्मी अंदाज में आए बाइक सवार तीन बदमाशों ने बिना कोई फायर किए दिनदहाड़े 22 लाख रुपए लूट लिए. बदमाश तो वारदात को अंजाम देकर निकल गए, लेकिन इसके बाद पूरे शहर का पुलिस विभाग अशांत हो गया. एसएसपी से लेकर छोटे-बड़े अधिकारी घटनास्थल के पास जुट गए. सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए. पूरे शहर में ताबड़तोड़ चेकिंग अभियान चलाया गया. पीडि़त को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की गई. सारी कवायदों के बावजूद बदमाश हाथ नहीं आए.

22 लाख लेकर अकेले निकला
धूमनगंज थाना क्षेत्र के प्रीतम नगर मोहल्ले में राइटर सेफगार्ड प्राइवेट लिमिटेड का कार्यालय है. कंपनी विभिन्न फर्मो से रकम वसूलने, उनके बैंक खातों में जमा करने के अलावा बैंक के एटीएम में पैसा डालने का भी काम करती है. कम्पनी में कंधईपुर के न्याय नगर कॉलोनी का प्रशांत राय पुत्र देव शंकर राय कस्टोडियन के रूप में काम करता है. मंगलवार सुबह करीब दस बजे प्रशांत एक बैग में 22 लाख रुपए रखकर अकेले बाइक से सिविल लाइंस के लिए निकला. प्रशांत को यह रकम आईसीआईसीआई बैंक में जमा करनी थी.

यू-टर्न लेकर भागे बदमाश
प्रशांत कैंट थाना क्षेत्र के नेहरू पार्क के सामने और चौफटका के करीब पहुंचा ही था कि अचानक पीछे चल रही एक बाइक पर सवार तीन बदमाशों ने ओवरटेक कर रोक लिया. जब तक प्रशांत कुछ समझता एक बदमाश बाइक से उतरा और तमंचा तान दिया. दूसरे ने उसका बैग छीन लिया. तब तक तीसरा साथी बाइक को यू टर्न दे चुका था और दोनों के बैठते ही वे वापस उसी दिशा (धूमनगंज) की ओर फरार हो गए, जिधर से आ रहे थे. प्रशांत ने इसकी सूचना तत्काल पुलिस कंट्रोल रूम को दी और बाइक लेकर वापस ऑफिस चला गया.

पहुंचे पुलिस अधिकारी
सूचना मिलते ही एसएसपी नितिन तिवारी, एसपी सिटी, सीओ समेत कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची. पुलिस अधिकारियों ने प्रशांत के अलावा कम्पनी के अन्य कर्मचारियों को बुलाकर पूछताछ की. इसके बाद तत्काल पूरे शहर में नाकाबंदी की चेकिंग शुरू की गई, लेकिन बदमाश पकड़ में नहीं आ सके. इंस्पेक्टर कैंट आरएस रावत ने बताया कि तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की गई है.

उठ रहे सवाल

-दस लाख रुपए से अधिक की रकम कहीं ले जानी हो तो नियमानुसार बख्तरबंद वैन दी जाती है.

-साथ में दो से चार सुरक्षाकर्मी भी भेजे जाते हैं. लेकिन प्रशांत इतनी बड़ी रकम लेकर अकेले क्यों निकला?

-कम्पनी के बाहर बख्तरबंद गाड़ी और सुरक्षा गार्ड मौजूद थे, लेकिन एक कर्मचारी को बाइस लाख रुपए देकर अकेले क्यों भेज दिया गया?

-पुलिस को शक है कि कहीं कंपनी के ही किसी कर्मचारी ने तो रकम के बारे में बदमाशों को सूचना दे दी.

दीपू है वारदात का चश्मदीद
जिस वक्त वारदात को अंजाम दिया गया, वहां हिम्मतगंज निवासी दीपू सैनी अपनी चश्मे की दुकान पर खड़ा था. उसने पुलिस को बताया कि एक बाइक पर सवार तीन बदमाश आए और एक बाइक सवार पर तमंचा तान कर उसका बैग छीन लिया. फिर धूमनगंज की तरफ वापस लौट गए.

कर्मचारियों का नम्बर सर्विलांस पर
पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने कंपनी के सभी कर्मचारियों का नंबर सर्विलांस पर लिया है. इसके साथ ही कर्मचारियों पर नजर भी रखी जा रही है. पुलिस सभी कॉल डिटेल भी निकाल रही है.

अक्सर कम रकम लेकर निकलता था
प्रशांत ने पुलिस को बताया कि वह अक्सर दो से तीन लाख रुपए तक लेकर निकलता था. मंगलवार को उसे ज्यादा रकम दी गई. पूछताछ के दौरान कुछ कर्मचारी जवाब देने में संदेह के दायरे में आए हैं.

शक के दायरे में गदऊ गिरोह
लूटकांड में पुलिस गदऊ पासी गिरोह पर शक जता रही है. मामले में धूमनगंज, सिविल लाइंस और कैंट थाने की पुलिस ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर कई बदमाशों को उठाया है. उनसे देर रात तक पूछताछ चल रही थी.

सिक्योरिटी एजेंसी चलाने वाली कंपनी ने ना‌र्म्स को दरकिनार कर रकम भेजी थी. 10 लाख से अधिक की रकम पर बख्तरबंद गाड़ी के साथ सुरक्षाकर्मी जाने चाहिए. लेकिन लापरवाही बरती गई. ये साजिश भी हो सकती है.

-बृजेश श्रीवास्तव, एसपी सिटी

बाइक सवार बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया है. कंपनी ने ना‌र्म्स का पालन भी नहीं किया है. टीम लगाई गई है, जल्द ही लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

नितिन तिवारी, एसएसपी

टाइम लाइन

9:55

बजे प्रशांत 22 लाख रुपए लेकर बाइक से दफ्तर से निकला

10:15

बजे बाइक सवार तीन नकाबपोश बदमाशों ने लूट लिया

10:25

बजे प्रशांत पुलिस को सूचना देकर वापस अपने दफ्तर पहुंच गया

10:35

बजे तक एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव, सीओ श्रीशचंद्र समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे

10:45

बजे तक एसएसपी नितिन तिवारी भी मामले की जानकारी पाकर मौके पर पहुंचे

11:00

बजे तक अधिकारियों ने इलाके में लगे सीसीटीवी को चिन्हित करना शुरू कर दिया

11.30

बजे तक पुलिस ने सभी सीसीटीवी के फुटेज कब्जे में ले लिए थे