क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ ट्ठ आरटीसी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में आयोजित नेशनल सेमिनार के अंतिम दिन ट्रांसपोर्ट, एग्रीकल्चर, जलवायु, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट और एनवायरमेंट डेवलपमेंट व प्रोटेक्शन में हो रहे न्यू टेक्नोलॉजी पर एक्सप‌र्ट्स ने अपने-अपने व्यूज रखे. बीआईटी मेसरा के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ अरुण कुमार ने जहां ट्रांसपोर्ट में इस्तेमाल हो रही न्यू टेक्नोलॉजी के बारे में जानकारी दी, वहीं यहीं के प्रो कृति अभिषेक ने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के टेक्नोलॉजी पर प्रकाश डाला. मौके पर सीएमपीडीआई के जीएम एम पुष्कर ने रांची में जलवायु परिवर्तन और इसके दुष्प्रभाव के बारे में बताया. सेमिनार में डॉ तनुश्री भट्टाचार्य ने फ्लाई एश के विभिन्न उपयोगों के तकनीकों के बारे में जानकारी दी तो संयोजक आदित्य कुमार एवं अमन कुमार ने पर्यावरण और पर्यावरण विकास के संरक्षण में टेक्नोलॉजी के बारे बताया. सेमिनार के समापन समारोह में झारखंड बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन के सेक्रेटरी एसबी साहू ने भी व्याख्यान दिया. मौके पर सांसद व इंस्टीट्यूट के के चेयरमैन रामटहल चौधरी ने पर्यावरण संरक्षण में इंजीनियरों की भागीदारी को अहम बताया. उन्होंने इस सेमिनार के आयोजन के लिए सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के फैकल्टी मेंबर्स व स्टूडेंट्स को बधाई दी.

नेट का आंसर अगस्त लास्ट वीक में

यूजीसी के नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (नेट) का मॉडल आंसर अगस्त के अंतिम सप्ताह में जारी किया जाएगा. परीक्षार्थी सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर इसे चेक कर सकते हैं. अभ्यर्थी अगर आंसर की से संतुष्ट नहीं हैं, तो वे अपनी आपत्ति दर्ज करवा सकते हैं. इसके लिए प्रति प्रश्न 1000 रुपए का शुल्क लगेगा. आपत्ति ऑनलाइन माध्यम से दर्ज कराई जा सकती है.