-सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर हाईवे पर रुन्नीसैदपुर थाना क्षेत्र के भनसपट्टी में हुई दुर्घटना

patna@inext.co.in

SITAMADHI/PATNA: रुन्नीसैदपुर थाना क्षेत्र के भनसपट्टी गांव के पास सीतामढ़ी-मुजफ्फरपुर हाईवे पर रविवार सुबह कोहरे में उत्तराखंड के श्रद्धालुओं से भरी एक बस सामने से आ रहे ट्रक से टकरा गई. इसमें बस चालक और एक महिला श्रद्धालु की मौत हो गई. बस में सवार 34 तीर्थयात्री और ट्रक चालक गंभीर रूप से जख्मी हो गए. घायलों में चार का इलाज रुन्नीसैदपुर पीएचसी और शेष का मुजफ्फरपुर स्थित एसकेएमसीएच में जारी है. मृतकों में बस चालक उत्तराखंड के देहरादून जिले के ऋषिकेश थाना क्षेत्र के श्यामपुर भट्टोवाला निवासी दिनेश पांडे व देहरादून जिले के रायपुर निवासी पीताम्बर दत्त की पत्नी रुक्मिणी देवी हैं. एसकेएमसीएच में इलाज के दौरान रुक्मिणी देवी की मौत हो गई.

जख्मी श्रद्धालु एडमिट

उसके पति पीताम्बर दत्त का एसकेएमसीएच में इलाज जारी है. टिहरी गढ़वाल निवासी मंगल सिंह, उनकी पत्नी पार्वती देवी, मेहरवान सिंह व उनकी पत्नी समता देवी का इलाज रुन्नीसैदपुर पीएचसी में जारी है.

वाहनों का परिचालन रहा ठप

हाईवे पर एक घंटे तक वाहनों का परिचालन प्रभावित रहा. रुन्नीसैदपुर थानाध्यक्ष गोरख राम के नेतृत्व में पुलिस ने उत्तराखंड की दुर्घटनाग्रस्त बस और ट्रक को जब्त कर लिया. पुलिस ने क्रेन की मदद से वाहनों को सड़क से हटवा कर आवागमन चालू कराया. डीएम डॉ. रणजीत सिंह के निर्देश पर बीडीओ सरोज कुमार ने स्थिति का जायजा लिया. बाद में खुद डीएम भी पहुंचे. 34 घायल श्रद्धालुओं को इलाज के लिए भर्ती कराया गया.

तीन बसें चली गई थी आगे

उत्तराखंड और उत्तरकाशी के 160 श्रद्धालु चार टूरिस्ट बसों से तीर्थयात्रा पर निकले थे. सबने उत्तराखंड के काशी गंगोत्री से यात्रा प्रारंभ की. 31 दिसंबर को तीर्थयात्री हरिद्वार पहुंचे. इसके बाद उत्तरप्रदेश के सीतापुर स्थित नेमिशरण, अयोध्या, चित्रकूट, इलाहाबाद, बनारस, गोरखपुर काठमांडू, जनकपुर होते हुए शनिवार शाम सीतामढ़ी पहुंचे. माता जानकी की जन्मस्थली सीतामढ़ी में दर्शन के बाद मुजफ्फरपुर के रास्ते गया के लिए रवाना हुए. तीन टूरिस्ट बसें पीछे थीं. आगे निकली बस को भनसपट्टी के निकट सामने से आ रहे ट्रक ने टक्कर मार दी. हादसे में बस - ट्रक के परखच्चे उड़ गए. बस चालक की मौके पर ही मौत हो गई. चीख पुकार मच गई. पुलिस ने स्थानीय लोगों के सहयोग से घायलों को पीएचसी, गंभीर रूप से घायलों को एसकेएमसीएच भेजा.