एक नहीं दो कारों में सवार होकर आए थे हमलावर

सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों को भी लिया गया है रडार पर

meerut@inext.co.in
MEERUT : विधायक संगीत सोम की कोठी पर हुए हमले को लेकर पुलिस की सुई दो इलेक्ट्रॉनिक चैनल के पत्रकारों पर घूम गई है. पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि दोनों पत्रकार घटना होने के पांच मिनट बाद पहुंच गए थे. साथ ही घटना से पंद्रह मिनट पहले भी दोनों के फोन लोकेशन भी संगीत सोम की कोठी के आसपास ही मिली है.

लोकेशन कोठी के पास

एसएसपी का कहना है कि घटना से पहले व बाद में माल रोड पर लगे मोबाइल टावर से जितने भी मोबाइल फोन की लोकेशन ट्रेस हुई है. सभी का डाटा निकलवाया गया है. जिसमें दो इलेक्ट्रॉनिक चैनल के पत्रकारों का मोबाइल नंबर सामने आया है. दोनों पत्रकार घटना के समय से पहले रात पौने एक बजे कोठी के पास क्या कर रहे थे. घटना होते ही पुलिस से पहले कैसे पहुंच गए? सभी को जांच में शामिल कर लिया गया है.

रडार पर संदिग्ध

पुलिस के रडार पर कई संदिग्ध नंबर भी आए हैं. सभी से पूछताछ भी की जा रही है. यही नहीं विधायक संगीत सोम की सुरक्षा में तैनात सस्पेंड हुए पांचों सिपाही भी संदेह के घेरे में हैं. उनसे पुलिस अधिकारी हिरासत में लेकर अलग-अलग पूछताछ कर रहे हैं. पांचों सिपाही बार-बार अपना बयान बदल रहे हैं, जिससे मामला और पेचीदा होता जा रहा है. हालांकि दो सिपाही बिना बताए गैरहाजिर थे. इसके चलते उनसे भी पूछताछ की जरही है.

सीसीटीवी में कैद

एसएसपी अखिलेश कुमार ने बताया कि गोली चलाने वाले एक कार में नहीं बल्कि दो कारों में सवार होकर आए थे. दोनों कार सीसीटीवी में कैद हो गई हैं. एक काली आई 10 कार है जबकि दूसरी सफेद रंग की कार है.

फोरेंसिक जांच में खुलासा

एसएसपी का कहना है कि पहले मेरठ की फोरेंसिक जांच से सेंपल भरवाए गए. इसके बाद फिर गाजियाबाद से सेंपल भरवाने के लिए फोरेंसिक हाई टेक्नोलॉजी से लेस एक्सपर्ट बुलाए गए. इसके बाद आगरा से फोरेंसिक जांच की पूरी टीम बुलाई गई. तीनों एक्सपर्ट की रिपोर्ट आगरा में तैयार हो रही है. उसकी रिपोर्ट आते ही बड़ा खुलासा हो सकता है.