कुछ रिटेलर और ऑपरेटर कर रहे धांधली
सिम धांधली के मामले सामने आने पर यूआईडीएआई ने यह फैसला लिया है। यूआईडीएआई को पता चला है कि टेलीकॉम कंपनियों के कुछ रिटेलर, ऑपरेटर और एजेंट सिम री-वेरिफिकेशन के नाम पर लोगों के आधार नंबर का दुरुपयोग करके ऐसे लोगों को नये सिम जारी कर रहे हैं जिनका वह आधार नंबर नहीं है। प्राधिकरण ने साफ तौर पर टेलीकॉम कंपनियों को चेतावनी जारी करके कहा है कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनका कोई रीटेलर, ऑपरेटर या एजेंट सिम के ऐसे फर्जीवाड़े में शामिल न हो। साथ ही प्राधिकारण ने 15 मार्च से पहले नई व्‍यवस्‍था शुरू करने के लिए कहा है।

एमएसएम आधारित व्‍यवस्‍था बनाओ
प्राधिकरण ने कहा है कि टेलीकॉम कंपनियां एसएमएस आधारित ऐसी व्‍यवस्‍था ग्राहकों को उपलब्‍ध कराएं जिससे यह पता चल सके कि उनका मोबाइल आधार से लिंक है या नहीं। साथ ही इस व्‍यवस्‍था से ग्राहकों को यह जानकारी भी मिल सके कि उनके आधार नंबर से कोई अन्‍य मोबाइल नंबर जारी हुआ है या नहीं या कितने मोबाइल नंबर उनके आधार से लिंक हैं।

Business News inextlive from Business News Desk