कानपुर। आगामी बजट 2019 का इंतजार पूरा देश बेसब्री से कर रहा है। ये बजट इसलिए भी खास है क्योंकि पीएम मोदी के इस कार्यकाल का पांचवां और आखिरी बजट है। बता दें कि इस साल का बजट संसद में 1 फरवरी को पेश किया जायेगा। इस बार वित्त मंत्री अरुण जेटली की जगह रेल मंत्री पीयूष गोयल संसद में बजट पेश करने वाले हैं। इस मौके पर आपको यह जानना बेहद जरुरी है कि आजाद भारत का पहला बजट किसने और कब पेश किया था।

साढ़े सात महीने का पहला बजट
वित्त मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, 15 अगस्‍त 1947 को भारत आजाद होने के बाद देश का पहला बजट तत्कालीन वित्त मंत्री आर. के षणमुखम चेट्टी ने पेश किया था। संसद में उन्होंने 26 नवंबर, 1947 को भारत का पहला बजट पेश किया। तत्कालीन वित्‍त मंत्री का यह बजट पूरे साल का नहीं सिर्फ साढ़े सात महीनों के लिए था।  यह बजट 15 अगस्त, 1947 से लेकर 31 मार्च, 1948 तक के लिए पेश किया गया था। सदन में श्री चेट्टी ने देश का कुल आमद 171. 15 करोड़ और खर्च 192. 35 करोड़ बताया था। इसमें सुरक्षा सेवा पर 92.76 करोड़ खर्च करना था। यह बजट इसलिए पेश किया गया था क्योंकि भारत और पाकिस्तान दो अलग अलग राष्ट्र बन गए थे। इस बजट में टेक्सटाइल उद्योग को बढ़ावा देने समेत भारत को विकसित बनाने जैसे कई मुद्दों पर ध्यान दिया गया था।  इस बजट में किसी तरह के नए टैक्स का प्रस्ताव नहीं रखा गया था।

भारत और पाकिस्तान को ध्यान में रखकर पेश किया गया बजट

यह बजट भारत और पाकिस्तान दोनों के फायदे को ध्यान में रखकर पेश किया गया था। अपने बजट भाषण में श्री चेट्टी ने कहा कि फिलहाल दोनों देश मौजूदा टैक्स और ड्यूटीज को जारी रखेंगे, उनके बीच किसी भी आंतरिक बाधाओं के बिना व्यापार का आवागमन होगा और दोनों देश में आयात और निर्यात कंट्रोल आपसी तालमेल के साथ चलेगा। इसके अलावा उन्होंने अपने भाषण में यह भी कहा कि सितंबर 1948 के अंत तक दोनों देशों में एक ही नोट चलते रहेंगे, हालांकि अगले 1 अप्रैल से पाकिस्तान अपना नोट और सिक्का बनाना शुरू कर देगा।

अनुपूरक बजट पेश करने की मंजूरी, कैबिनेट मीटिंग में इन 10 बड़े प्रस्तावों पर भी लगी मुहर

Business News inextlive from Business News Desk