यूनाइटेड नेशंस (पीटीआई)। दुनिया में एक अरब से अधिक लोग अपने स्मार्टफोन पर तेज आवाज में गाना सुनने के चलते सुनने की ताकत को कम कर सकते हैं। संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ ने इस विषय को लेकर चेतावनी जारी करते हुए इस समस्या को खत्म करने के लिए एक नई गाइडलाइन जारी की है। डब्ल्यूएचओ में बहरेपन और हियरिंग की समस्या पर काम करने वाली तकनीकी अधिकारी शेल्ली चड्ढा ने कहा, 'एक बिलियन से अधिक युवाओं को स्मार्टफोन पर तेज गाना सुनने में मजा आता है, वे इसके लिए इयरफोन का इस्तेमाल करते हैं लेकिन इससे वह बहरेपन का शिकार हो सकते हैं या उनकी सुनने की ताकत कम हो सकती है।'

स्मार्टफोन में वॉल्यूम कंट्रोल फीचर का करें इस्तेमाल

यूएन की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन लोगों को इस भयानक बीमारी का खतरा है, उनकी उम्र 12 से 35 वर्ष के बीच है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बताया कि हियरिंग लॉस की समस्या के चलते दुनियाभर में 750 मिलियन डॉलर खर्च होने का अनुमान है। चड्डा ने बताया कि हम सभी के स्मार्टफोन में एक साउंड कंट्रोलिंग सिस्टम होता है, जो आपको बताता है कि आपको कितनी साउंड मिल रही है और आप साउंड लिमिट से ऊपर जा रहे हैं, यदि बहरेपन का शिकार होने बचना है तो स्मार्टफोन में दी गई उस गाइडलाइन को जरूर फॉलो करें। उन्होंने कहा, 'इसके अलावा आप इस बीमारी से बचने के लिए ऐसे डिवाइस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, जिसमें ऑटोमैटिक वॉल्यूम कंट्रोल हो। कान में तेज आवाज होने पर अपनेआप वो वॉल्यूम को कम कर दे।'

वीकेंड पार्टी का है प्‍लान तो ये शानदार ऐप्‍स आएंगी बहुत काम

विंडोज 10 पर बार बार परेशान करने वाली नोटिफिकेशन से ऐसे बचें

International News inextlive from World News Desk