-राज्यपाल के प्रधान सचिव ने की प्रति-कुलपतियों साथ बैठक

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: बिहार के कई विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं बहुत विलंब है. ऐसे सभी विश्वविद्यालय वर्ष 2019 के प्रारंभ तक करा ले. इसके अलावा शिक्षकों की कमी, इंफ्रास्ट्रक्चर और अन्य कमियों को भी सुधार लें. ये बातें राज्यपाल सह कुलाधिपति लालजी टंडन ने बिहार के सभी यूनिवर्सिटी के प्रो वीसी के साथ उच्च शिक्षा के विकास के लिए समीक्षा बैठक के दौरान कही.

इस दौरान राजभवन में बैठक में सभी प्रति कुलपतियों ने दो- दो सुझाव दिया. बिहार का प्रभार लेने के साथ ही राज्यपाल सह कुलाधिपति ने प्रति-कुलपतियों को इस संबंध में आदेश दिए थे. राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह की ओर से यह समीक्षा बैठक बुलाई गई थी.

समस्याएं सुझाव में शामिल

बैठक में प्रति कुलपतियों ने विश्वविद्यालयों में समस्याओं पर पूरा जोर दिया. मुख्य रूप से आधारभूत संरचना विकसित करने, शोध कार्यो में गुणवत्ता लाना, शिक्षक की कमी दूर करना, छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चित करना शामिल हैं. प्रधान सचिव ने कहा कि स्नातक परीक्षाओं के आयोजन में प्रति-कुलपतियों की भूमिका एवं दायित्व महत्वपूर्ण हैं. जिन विश्वविद्यालयों में अब तक परीक्षाएं नहीं हुई हैं वहां 2019 के पहले लंबित परीक्षाएं कर ली जाएं. रिजल्ट भी समय पर प्रकाशित हो. लंबित परीक्षा कैलेंडर की समीक्षा की गई. इस क्रम में यूनिवर्सिटी मैनेजमेंट इंफारमेशन सिस्टम (यूएमआइएस) के कार्यान्वयन पर तत्परता दिखाने के निर्देश दिए गए. ज्ञात हो कि नामांकन, कर्मियों की नियुक्ति, प्रोन्नति, सेवा इतिहास से संबंधित सारे कार्य और सूचना यूएमआइएस के जरिए विवि के कंप्यूटर पर सुरक्षित की जानी है.