क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : मिशनरीज ऑफ चैरिटी के निर्मल हृदय से बच्चों के सौदा किए जाने का प्रकरण सामने आने के बाद एक बिन ब्याही मां अपने बच्चे को वापस पाने के लिए मुंबई से रांची पहुंची. बुधवार को वह सदर थाना एरिया के बड़गाई स्थित उस ब्यूटी पार्लर में वह गई, जहां अपने नवजात को छोड़कर मुंबई चली गई थी. लेकिन, यहां उसे बताया गया कि उसके बच्चे को पुलिस ने 'करुणाश्रम' के हवाले कर दिया है. यहां आने के बाद बच्ची को उसे सौैंप दिया गया, जिसकी जानकारी उसने थाने को लिखित रुप से दे दी है.

प्रेमी को खोजने गई थी मुंबई

पूछताछ में उसने बताया कि वह बच्चे को छोड़कर 28 जुलाई की दोपहर में पैदल बूटी मोड़ पहुंची, फिर वहां से वह स्टेशन पहुंची और कोलकाता हावड़ा होते हुए मुंबई पहुंच गई. मुंबई में वह अपने जिस प्रेमी से मिलने के लिए गई थी, उसने उसे दगा दे दिया. तब मुंबई पुलिस का सहारा लिया. फिर, भी प्रेमी वापस नहीं आया तो वहां से वापस लौट आई.

प्रेमी ने बनाया संबंध, हुई प्रेग्नेंट

उसने बताया कि वह हजारीबाग के चौपारण की रहने वाली है. उसके साथ उसके प्रेमी में जबरन शारीरिक संबंध स्थापित कर लिया था. इस कारण प्रेग्नेंट हो गई थी. ऐसे में कोख को छिपाने के लिए रांची ले आई थी. यहां बड़गाई इलाके में एक महिला के पास पहुंची. उसे बताया कि उसके पति की मौत एक्सीडेंट में हो गई है. ऐसे में उसने अपने घर में पनाह दी थी. पनाह मिलने के बाद दीया सेवा संस्थान से संपर्क किया. संपर्क करने पर नारी निकेतन में भर्ती कराया गया. यहां एक माह बाद एक बच्ची को जन्म दिया. बच्ची को लेकर एक ब्यूटी पार्लर संचालिका के पास पहुंची. ब्यूटी पार्लर संचालिका को कहा कि बच्ची को वह रख ले. वह उसे रखने लगी. 28 जुलाई को ब्यूटी पार्लर संचालिका भोजन करने के लिए गई. इसी बीच उसके गल्ले से चार हजार रूपए लेकर बच्चे को वहीं छोड़कर मुंबई भाग गई.

बच्ची को रेस्क्यू करा भेज दिया करुणाश्रम

पुलिस को बच्चे की बिक्री की सूचना मिली थी. एसएसपी अनीष गुप्ता को बच्चे की बिक्री की सूचना मिलने के बाद सदर थानेदार दयानंद कुमार ने पड़ताल की थी. पुलिस ने बच्चे को रेस्क्यू करते हुए सीडब्ल्यूसी को सौंपा था, सीडब्ल्यूसी ने बच्चे को अपनी सुरक्षा में लेकर उसे करुणा आश्रम में रखवा दिया था.