- उन्नाव में नकली शराब पीने से हुई मौत के बाद मेरठ आबकारी विभाग हुआ अलर्ट

- आबकारी विभाग ने एसएसपी को लेटर लिख मांगी फोर्स

- पंचायत चुनाव में हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तराखंड से आ सकती है अवैध शराब

- पिछले सवा साल में डिपार्टमेंट 40 हजार लीटर शराब कर चुका है सीज

- अभी तक 1081 लोगों को किया जा चुका है गिरफ्तार

- इलीगल शराब को लेकर 155 लोगों को भेजा जा चुका है जेल

meerut@inext.co.in

Meerut : बीते शनिवार को उन्नाव में जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत से पूरे यूपी में सनसनी फैल गई थी. इसको ध्यान में रखते हुए मेरठ का आबकारी डिपार्टमेंट पूरी तरह से सतर्क हो गया है. पंचायत चुनाव को देखते हुए आबकारी डिपार्टमेंट ने पुलिस डिपार्टमेंट से अवैध और जहरीली शराब की तस्करी को रोकने के लिए फोर्स की मांग की है. डिपार्टमेंट ने साफ कर दिया है कि मेरठ में अवैध तस्करी जिले के चारों ओर से हो रही है. गौरतलब है कि पिछले पिछले सवा साल में डिपार्टमेंट 60,000 लीटर अवैध शराब सीज कर चुका है.

उन्नाव हादसे से डरा डिपार्टमेंट

शनिवार को उन्नाव में जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत के बाद जिले के कई अधिकारियों पर हुई कार्रवाई से मेरठ आबकारी डिपार्टमेंट पूरी से डर गया है. इसलिए मेरठ में ऐसा हादसा न हो इसके लिए अभी से तैयारी करनी शुरू कर दी है. वहीं पंचायत चुनाव भी नजदीक है. ऐसे में डिपार्टमेंट को पता है कि शराब की तस्करी होना तय है. ऐसे में उन्होंने अभी से कार्ययोजना तैयार करनी शुरू कर दी है.

पुलिस से फोर्स की डिमांड

आबकारी डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने साफ कर दिया है कि जिला पंचायत चुनाव में कई प्रदेशों से अवैध और जहरीली शराब आ सकती है. अधिकारियों ने आशंका जताई है कि दिल्ली, उत्तराखंड, चंडीगढ़ और हरियाणा से पहले से ही शराब की तस्करी हो रही है. इसी तस्करी को रोकने के लिए डिपार्टमेंट ने पुलिस से फोर्स की डिमांड की है. ताकि छापे मारकर इस तस्करी को रोका जा सके.

हजारों लीटर शराब हो चुकी है जब्त

अगर वित्तीय वर्ष 2014-15 और अप्रैल से जुलाई 2015 तक के कुल सवा साल की कार्रवाईयों की बात करें तो डिपार्टमेंट कुल 2287 छापे मार चुका है, जिनमें 1442 केस सामने आए हैं और 38,378.300 लीटर इलीगल शराब पकड़ी गई है. इन केसों में 1081 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. 167 लोगों को जेल भेजा चुका है.

जिला पंचायत चुनाव में अवैध शराब की तस्करी को रोकने के लिए पुलिस की मदद ली जाएगी. ऐसे में अधिकारियों को लेटर लिखा गया है. हमारी ओर से पूरे प्रयास रहेंगे कि जो उन्नाव में हुआ वो मेरठ में न हो.

- प्रदीप दुबे, जिला आबकारी अधिकारी

फैक्ट एंड फिगर

- पिछले सवा साल में मारे गए छापों की संख्या : 2287.

- पिछले सवा साल में सामने आए केसों की संख्या : 1442.

- पिछले सवा साल में पकड़ी कई इलीगल शराब की मात्रा : 38,378.300 लीटर.

- पिछले सवा साल में पकड़े गए वाहनों की संख्या : 55.

- पिछले सवा साल में इलीगल शराब में गिरफ्तार हुए बदमाशों की संख्या : 1081.

- पिछले सवाल में जेल भेजे गए लोगों की संख्या : 167.

- पिछले सवा साल में हुई एफआईआर : 50.