- दो दिन में यूपी 100 पर आई पचास हजार से ज्यादा कॉल

- खुद परिवार से दूर पर लोगों की मदद को तत्पर रहे पुलिसकर्मी

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: दिवाली पर जब लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ खुशियां मना रहे थे तो वहीं दूसरी ओर दुनिया के सबसे बड़े इमरजेंसी रिस्पांस सिस्टम यूपी-100 में पुलिसकर्मी मुसीबत में फंसे लोगों की मदद कर रहे थे. सही मायने में दिवाली का पर्व इन पुलिसकर्मियों ने ही मनाया क्योंकि अपने परिवार से दूर रहकर लोगों की सेवा का जज्बा उनके भीतर कम नहीं हुआ. आपको यह जानकर हैरत होगी कि दिवाली पर दो दिन के भीतर यूपी-100 पर मदद मांगने के लिए 50 हजार से ज्यादा कॉल आई, जिसका निस्तारण करने के लिए तत्काल मौके पर पीआरवी भेजी गयीं.

हर मुसीबत में सिर्फ यूपी-100

यूं तो दिवाली पर प्रशासन की ओर से तमाम इमरजेंसी सुविधाओं के लिए व्यवस्थाएं पहले से की जाती हैं, लेकिन अक्सर लोग मुसीबत के समय फोन नंबर इत्यादि याद न होने की वजह से इसका इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं. ऐसे में यूपी-100 का नंबर लोगों के लिए नई उम्मीद लेकर आया है. बीते दो साल के दौरान यह नंबर बेहद लोकप्रिय साबित हुआ है और इसकी गवाही इस पर आने वाली लाखों फोन कॉल्स हैं. इस बार भी दिवाली पर यूपी-100 का स्टाफ और पीआरवी पर तैनात पुलिसकर्मी मुस्तैद नजर आए, तभी इतनी बड़ी तादाद में लोगों को मदद पहुंचाई जा सकी. इनमें केवल पुलिस सहायता ही नहीं, फायर बिग्रेड और मेडिकल इमरजेंसी भी शामिल थी.

जल्द होना है विस्तार

ध्यान रहे कि यूपी-100 का जल्द ही विस्तार भी होने जा रहा है. निर्भया फंड के तहत केंद्र सरकार द्वारा लखनऊ को महिलाओं के लिए सेफ सिटी बनाने को 194.44 करोड़ रुपये दिए गये हैं. इस योजना के तहत यूपी 100 व 1090 आपस में लिंक हो जाएंगे यानि 112, 100 व 1090 पर की जाने वाली कॉल एक-दूसरे को ट्रांसफर की जा सकेंगी.

बॉक्स

बचाई हजारों लोगों की जान

इतना ही नहीं, यूपी 100 पर एक जागरूक कॉलर द्वारा फोन किए जाने से हजारों लोगों की जान भी बचाई जा सकी. दरअसल, मुरादाबाद के गुलाबबाड़ी रेलवे क्रॉसिंग के पास गुरुवार सुबह स्थानीय युवक शहजाद ने रेल पटरी चटकी देखी तो तत्काल यूपी-100 को फोन कर दिया. पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गेट मैन को इसकी जानकारी दी और लाल झंडी लगवाकर रामनगर मुरादाबाद एक्सप्रेस ट्रेन रुकवा दी. इससे रेल प्रशासन में हड़कंप मच गया और ट्रेनों का संचालन बंद करा दिया गया. ट्रैक की मरम्मत करने के बाद ट्रेनों को धीमी गति से गुजारा गया. शहजाद की इस जागरुकता की वजह से यूपी-100 ने उसकी प्रशंसा करने के साथ उसे 'सिटीजन कॉलर ऑफ दि डे 'भी घोषित किया.

फैक्ट फाइल

दिवाली

- 65022 लोगों ने यूपी-100 पर दिवाली पर की कॉल

- 23210 इवेंट बनाए गये तत्काल मदद पहुंचाने को

- 5000 से ज्यादा मामले पड़ोसियों के झगड़े के आए

- 2828 फोन कॉल आई मेडिकल इमरजेंसी को लेकर

- 600 कॉल्स फायर सर्विस के लिए लोगों ने की

- 38 सूचनाएं जीआरपी से जुड़ी हुई आई

गोवर्धन पूजा

- 72836 लोगो ने गोवर्धन पूजा पर की कॉल

- 26471 इवेंट बनाए गये तत्काल मदद पहुंचाने को

- 5611 मामले आपसी में विवाद को लेकर आए

- 3233 कॉल्स आई मेडिकल इमरजेंसी को लेकर

- 422 कॉल्स फायर सर्विस के लिए लोगों ने की

2017 में आई कॉल्स

- 19000 दिवाली

- 21000 गोवर्धन पूजा

2018 में आई कॉल्स

- 23210 दिवाली

- 26471 गोवर्धन पूजा