शुरुआती रूझान के बाद मतगणना स्थल से निकलने लगे सपा और बसपा के अधिकांश प्रत्याशी

जीत का सर्टिफिकेट लेने के बाद गए भाजपा के प्रत्याशी, सबसे आखिर में हर्षवर्धन बाजपेई और नंद गोपाल गुप्ता नंदी निकले

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: मुंडेरा मंडी स्थल पर शनिवार को हुई मतगणना का सबसे ज्यादा असर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी पर पड़ा. पहले चार राउंड का शुरुआती रूझान बसपा प्रत्याशियों के हिसाब से सुकून का रहा, लेकिन सपा के निवर्तमान विधायकों की स्थिति खराब दिखाई दी. शहर दक्षिणी से प्रत्याशी हाजी परवेज अहमद टंकी और शहर उत्तरी से सपा-कांग्रेस गठबंधन प्रत्याशी अनुग्रह नारायण सिंह को छोड़कर अन्य सभी प्रत्याशी 10:30 बजे के बाद अपने समर्थकों के साथ काउंटिंग स्थल के पिछले दरवाजे से निकल गए.

11 बजे के बाद निकलने लगे प्रत्याशी

प्रतापपुर से लगातार तीसरे स्थान पर रहने वाली विजमा यादव चार राउंड की काउंटिंग के बाद मायूस होकर अपने समर्थकों के संग पूर्वान्ह 11 बजे बाहर निकल गई. बीच में नंदी के हारने की अफवाह उड़ी तो परवेज अहमद टंकी वापस आ गए, लेकिन वह ज्यादा देर तक नहीं रुके. जब यह पता चला कि नंदी चार हजार से अधिक वोटों से आगे निकल गए.

हार देख निकल तो नहीं गए

सपा के मंसूर आलम व अंसार अहमद को लेकर यही चर्चा चलती रही कि दोनों प्रत्याशी कहीं दिख नहीं रहे हैं. पता लगाओ हार देखकर चले तो नहीं गए. हालांकि बसपा प्रत्याशी हाकिम लाल बिंद और हाजी मुजतबा सिद्दीकी जीत की ओर बढ़ रहे थे इसलिए रुके रहे. जीत हासिल होने के बाद दोनों प्रत्याशी सर्टिफिकेट लेकर गए लेकिन मनोज पांडेय, गीता पासी, हाजी माशूक खां व अमित श्रीवास्तव शुरुआती रूझान के बाद ही वापस हो लिए.

भाजपा की बल्ले-बल्ले

शुरुआती रूझान से लेकर डीएम के हाथों जीत का सर्टिफिकेट लेने तक भाजपा-अपना गठबंधन के अधिकतर प्रत्याशी मुंडेरा मंडी में डटे रहे. शहर उत्तरी का परिणाम सबसे आखिरी में आने की वजह से भाजपा प्रत्याशी हर्षवर्धन बाजपेई माता-पिता के साथ मौजूद रहे. नंद गोपाल गुप्ता नंदी और उनकी पत्‍‌नी दोपहर तीन बजे के बाद विजयी मुद्रा में बाहर निकले. शहर पश्चिमी से सिद्धार्थनाथ सिंह हर राउंड में बढ़त लेते रहे और जीत हासिल करने के बाद सर्टिफिकेट लेकर गए. पहले ही राउंड से हजारों मतों की बढ़त बनाने वाले भाजपा प्रत्याशी राजमणि कोल तो अपनी सीट से ही नहीं उठे. जबकि मेजा से जीत हासिल करने वाली नीलम करवरिया अपने समर्थकों के साथ लम्बा जुलूस लेकर घर की ओर रवाना हुई.