-यूपी बोर्ड ने बनाया नयी रणनीति, अब कापियों की करेंगे कोडिंग

-हर कापी को कई लेवल पर रखा जाएगा लेखा-जोखा

varanasi@inext.co.in

VARANASI

यूपी बोर्ड नकल पर लगाम लगाने के लिए नये-नये तरीके अपना रहा है. परीक्षा फार्म भरने से लेकर केंद्र निर्धारण तक की प्रक्रिया में इस साल कई बदलाव किया गया है. अब देखना है कि नकल माफिया बोर्ड के इस इंतजाम को तोड़ पाते हैं या नहीं. एग्जाम में नकल पर रोक लगाने के लिए डीआईओएस ऑफिस को सचिव नीना श्रीवास्तव ने लेटर जारी किया है. बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव की ओर से जारी लेटर में कहा गया है कि सन् 2019 की दसवीं व बारहवीं की परीक्षा में कापियों की हेरा-फेरी व नकल पर अंकुश लगाने के लिए क्रमांकित कापियों की व्यवस्था की गई है.

अब कापियों से छेड़छाड़ संभव नहीं

राजकीय प्रेस से सादी कापियां टाट के बंडलों में सील हुई मिलेंगी. सभी बंडल पर क्रमांक का डिटेल होगा. एक रजिस्टर पर कापियों के क्रमांकों का विवरण दर्ज किया जाएगा. परीक्षा केंद्रों को परीक्षार्थियों की संख्या के अनुसार उत्तर पुस्तिकाओं को क्रम से भेजा जाऐगा. केंद्रों को उत्तर पुस्तिकाएं प्राप्त कराते वक्त क्रमांक के सामने निर्गत की गई उत्तर पुस्तिकाओं की कुल संख्या अंकित करते हुए पूर्ण हस्ताक्षर, पूरा नाम, पदनाम अवश्य लिखा जाए.

होगी कापियों की पड़ताल

कापियों के वितरण के लिए किसी योग्य कर्मचारी को ही लगाया जाएगा. जिला विद्यालय निरीक्षक भी समय-समय पर उत्तर पुस्तिकाओं के लेखा की पड़ताल करते रहेंगे. सादी कापियों के बंडल में से यदि किसी क्रमांक की उत्तर पुस्तिका प्राप्त नहीं होती है तो उस क्रमांक को पंजिका में अंकित करते हुए इसकी सूचना तत्काल बोर्ड के क्षेत्रीय सचिव व सचिव माध्यमिक शिक्षा परिषद को दी जाएगी. किसी भी सूरत में क्रमांक के ऊपर ओवर राइटिंग, कटिंग या फ्लूड का प्रयोग नहीं किया जाएगा.

क्रम से बटेंगी कापियां

सभी परीक्षा केंद्र व्यवस्थापकों को निर्देशित किया जाएगा कि परीक्षा केंद्रों में परीक्षार्थियों को क्रम से ही उत्तर पुस्तिका वितरित की जाए. उसका विवरण पंजिका में दर्ज किया जाए. परीक्षा अविधि में फ्लाइंग स्क्वाड भी समय-समय पर परीक्षा केंद्रों की उत्तर पुस्तिकाओं के लेखा-जोखा की जांच करेगा. साथ ही समय-समय पर इसकी सूचना क्षेत्रीय कार्यालय को भेजी जाएगी. हर दिन अनुपस्थित होने वाले परीक्षार्थियों की उत्तर पुस्तिकाएं जिला विद्यालय निरीक्षक से परमीशन लेकर अगले दिन की परीक्षा में प्रयोग की जाएंगी.

दर्ज होगा विवरण

परिषदीय परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले प्रत्येक परीक्षार्थी अपनी उत्तर पुस्तिका के प्रत्येक पृष्ठ पर अपना अनुक्रमांक व उत्तर पुस्तिका क्रमांक अनिवार्य रूप से अंकित करें. यह कक्ष निरीक्षक सुनिश्चित कराएंगे. इस बाबत केंद्र व्यवस्थापकों को लिखित निर्देश दिया जाएगा. परीक्षा समाप्त होने के एक सप्ताह के भीतर सभी केंद्र व्यवस्थापक से उत्तर पुस्तिकाओं का लेखा-जोखा अनिवार्य रूप से वापस ले लिया जाएगा. उत्तर पुस्तिकाओं का लेखा-जोखा प्रमाणित कर परिषद कार्यालय को उपलब्ध कराया जाएगा.