- यूपी बोर्ड का रिजल्ट जारी होते ही सामने आने लगी गड़बड़ी, एग्जाम देने वाले हुए अब्सेंट

- दो बार मौका मिलने के बाद भी अपलोड नहीं किया आंतरिक मूल्यांकन का मा‌र्क्स

1ड्डह्मड्डठ्ठड्डह्यद्ब@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

ङ्कन्क्त्रन्हृन्स्ढ्ढ

यूपी बोर्ड दसवीं व बारहवीं का रिजल्ट जारी होते ही मार्कशीट में गड़बड़ी भी सामने आने लगी है। एग्जाम में अपीयर होने के बावजूद मार्कशीट में कई परीक्षार्थियों को अब्सेंट दिखा दिया गया है। ऐसे परीक्षार्थी ग्रीवांस सेल के गठन का इंतजार कर रहे हैं ताकि गड़बड़ी को दूर कराने के लिए कम्प्लेन दर्ज कराया जा सके। यह तो नमूना भर है बोर्ड में ऐसी गड़बडि़यों का अंबार है।

सात स्टूडेंट्स हो गए फेल

एग्जाम फॉर्म में भारतीय शिक्षा मंदिर इंटर कॉलेज, इंग्लिशिया लाइन के इंटरमीडिएट साइंस व कॉमर्स कैटेगरी छात्रों ने सामान्य हिंदी के स्थान पर साहित्यिक हिंदी भर दिया था। लिहाजा एडमिट कार्ड में साहित्यक हिंदी ही अंकित हो गया। प्रवेश पत्र जारी होते ही प्रिंसिपल डॉ। चारूचंद्र त्रिपाठी ने इसे गंभीरता से लिया और क्षेत्रीय कार्यालय के माध्यम से संशोधन भी करा लिया, लेकिन एडमिट कार्ड पर त्रुटि संशोधित नहीं हो सकी। इसके अलावा सेंटर हेड को भी इससे अवगत कराया गया था, ताकि परीक्षार्थियों को सामान्य हिंदी का ही क्वैश्चन पेपर मिल सके। इसके बावजूद एक कक्ष में परीक्षा दे रहे भारतीय शिक्षा मंदिर से सात परीक्षार्थियों का हिंदी में अब्सेंट दर्शा दिया। अनिवार्य प्रश्नपत्र हिंदी में अब्सेंट होने के कारण सभी सात छात्र एग्जाम में फेल हो गए।

अपलोड नहीं किया मा‌र्क्स

इसी प्रकार महमूरगंज स्थित एक स्कूल की लापरवाही का आलम यह है कि बोर्ड की ओर से दो-दो मौका मिलने के बावजूद आंतरिक मूल्यांकन का मा‌र्क्स पोर्टल पर अपलोड ही नहीं किया। इसके चलते एक परीक्षार्थी फेल हो गई। वहीं हिंदी में इस परीक्षार्थी को अब्सेंट दर्शा दिया गया है। जबकि दसवीं की यह परीक्षार्थी सभी सब्जेक्ट की परीक्षा देने का दावा किया है।

दो मई को खुलेगा बोर्ड ऑफिस

बोर्ड एग्जाम रिजल्ट डिक्लेयर होने के बाद बोर्ड ने तीन दिनों की छुट्टी घोषित कर दिया था। ऐसे में अब क्षेत्रीय बोर्ड कार्यालय दो मई मई को खुलेगा। ऐसे में गड़बड़ी से प्रभावित परीक्षार्थियों को ऑफिस खुलने का इंतजार है। जैसे ही ऑफिस खुलेगी वैसे ही बोर्ड ऑफिस में भीड़ बढ़ जाएगी।