allahabad@inext.co.in
ALLAHABAD: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में एक बार फिर छात्राओं ने लोह मनवाया है। फतेहपुर की प्रियांशी तिवारी ने इंटरमीडिएट में 96.2 फीसदी के साथ टॉप किया है। कानपुर देहात की भावना, फतेहपुर की सोनम सिंह और विजय लक्ष्मी सिंह ने सेकंड पोजीशन 95.80 फीसदी अंकों के साथ दूसरा स्थान शेयर किया है। तीसरे स्थान पर फतेहपुर की ही प्रियंका द्विवेदी और अनुराधा पांडेय 95.40 फीसदी अंकों के साथ रहीं। हाईस्कूल में फतेहपुर की तेजस्विनी देवी 95.83 फीसदी अंकों के साथ टॉपर बनीं। हरदोई और बाराबंकी के क्षितिज सिंह, नवनीत कुमार दिवाकर, प्रगति सिंह और अमीना खातून 95.33 फीसदी अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहे। हरदोई और बाराबंकी के रवि पटेल और प्रियांशू वर्मा ने 95.17 फीसदी अंकों के साथ तीसरा स्थान शेयर किया है। हाईस्कूल का ओवरआल रिजल्ट 81.18 फीसदी और इंटरमीडिएट का 82.62 फीसदी रहा। छात्रों की तुलना में छात्राएं करीब दस फीसदी ज्यादा सफल हुई हैं।

54 लाख से अधिक परीक्षार्थी थे
माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक अमरनाथ वर्मा ने शुक्रवार को बोर्ड मुख्यालय में रिजल्ट जारी करते हुए बताया कि इस बार दोनों परीक्षाओं को मिलकर छात्रों के उत्तीर्ण होने का प्रतिशत 77.16 और छात्राओं का 82.84 है। रेल्युलर परीक्षार्थी के रूप में लड़कियों की सफलता 11.64 फीसदी ज्यादा रही और व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में उन्हें 3.36 फीसदी ज्यादा सफलता मिली।

एक नजर में बोर्ड रिजल्ट
- हाईस्कूल की परीक्षा में शामिल होने के लिए 3228113 छात्र रेग्युलर और 173398 छात्र प्राइवेट परीक्षार्थी के रूप में रजिस्टर्ड थे।
- 2854471 रेग्युलर और 140021 छात्र व्यक्तिगत परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा में शामिल हुए।
- रेग्युलर 2327610 और प्राइवेट 106632 छात्रों को सफलता मिली।
- हाईस्कूल में रेग्युलर छात्रों की सफलता का प्रतिशत 76.75 और छात्राओं की सफलता का प्रतिशत 86.50 रहा
- इंटरमीडिएट की परीक्षा में इस बार 26,56,319 रजिस्टर्ड थे। इसमें 14,27, 431 छात्र व 12,28, 888 छात्राएं थीं 1955575 रेग्युलर और 128149 प्राइवेट छात्रों को सफल घोषित किया गया है। रेग्युलर छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 77.16 फीसदी रहा है।
- 88.80 फीसदी छात्राओं ने सफलता हासिल की है

एक नजर में यूपी बोर्ड परीक्षा

यूपी बोर्ड 2017 की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 16 मार्च से शुरू हुई थीं हाईस्कूल की परीक्षा 15 दिन और इंटरमीडिएट की परीक्षा 25 दिन चली और 21 अप्रैल को खत्म हुई। विधानसभा चुनाव के कारण इस बार बोर्ड परीक्षा देर से शुरू हुई। इसी के चलते इस बार बोर्ड परीक्षा के परिणाम जारी करने में पिछड़ गया। प्रदेश में हाईस्कूल के छात्रों के लिए 11414 केन्द्र बनाए गए थे। इंटरमीडिएट के परीक्षार्थियों के लिए प्रदेश में 10868 केन्द्र बनाए गए थे। उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन 27 अप्रैल से शुरू हुआ था। इसके लिए प्रदेश में कुल 253 मूल्यांकन केन्द्र बनाए गए थे।हाईस्कूल की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए 77999 परीक्षक लगाए गए थे। इंटरमीडिएट की कापियों को चेक करने के लिए 59520 परीक्षक लगे थे।इंटरमीडिएट की प्रैक्टिकल परीक्षाएं 22 दिसंबर से 20 जनवरी के मध्य दो चरणों में कुल 14733 परीक्षकों ने सम्पादित कराईं।

National News inextlive from India News Desk