सीबीएसई स्कूलों की तर्ज पर होगा तैयार

बच्चों को अत्याधुनिक तकनीक के माध्यम से दी जाएगी शिक्षा

Meerut . यूपी बोर्ड के स्कूलों में भी अब सीबीएसई की तरह बच्चों को सुविधाएं मिल सकेंगी. स्मार्ट क्लासेज के साथ ही प्रोजेक्टर और डिजिटल लाइब्रेरी भी बच्चों को मुहैया कराई जाएगी. सीबीएसई स्कूलों को टक्कर देने के लिए यूपी बोर्ड ने भी कवायद शुरु कर दी है. इसके मद्देनजर माध्यमिक शिक्षा विभाग चुनिंदा स्कूलों को मॉडल स्कूल में तब्दील करेगा, जिसमें सभी सुविधाएं प्राइवेट स्कूल की तरह ही होंगी, हालांकि पहले पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर मंडल के एक ही स्कूल में यह योजना लागू की जाएगी.

होंगी स्मार्ट क्लासेज

इस प्रोजेक्ट के तहत चयनित स्कूल में स्मार्ट क्लासेज की सुविधाओं को डेवलप किया जाएगा, जिससे तहत बच्चों को आधुनिक तरीके से पढ़ाई करने का मौका मिले. प्राइवेट स्कूल की तरह प्रोजेक्टर के जरिए बच्चों को किताबी ज्ञान के साथ ही तकनीकी ज्ञान भी दिया जा सकेगा. इसके अलावा इस स्कूल में इलेक्ट्रॉनिक लाइब्रेरी भी डेवलप की जाएगी ,जिससे बच्चों को लाइबे्ररी में पढ़ने के लिए हर तरह की सुविधा मिल सके. वहीं तरह-तरह की किताबें पढ़ने का मौका भी बच्चों काे मिल सके.

तैयार होगी नई बिल्डिंग

सीबीएसई की तरह इस स्कूल में जहां नई बिल्डिंग का निर्माण होगा,वहीं सभी सुविधाएं भी प्राइवेट स्कूल की तरह की होंगी. स्कूल के अंदर ऑडिटोरियम भी तैयार किया जाएगा. वहीं गेम्स के लिए ग्राउंड, पीने के पानी की व्यवस्था, फर्नीचर आदि की व्यवस्था भी पूरी तरह से अप-टू-डेट होगी. ताकि यहां पढ़ने वाले बच्चों को प्राइवेट स्कूल की जैसे ही फील आ सके.

लैब हाेंगी तैयार

मॉडल स्कूल में बच्चों को आधुनिक और एडवांस तकनीक से शिक्षा मिले, वहीं सभी सुविधाएं भी हो इसका विशेष रूप से ख्याल रखा जाएगा. स्कूल में केमेस्ट्री लैब, बॉयो लैब, फिजिक्स लैब, कम्प्यूटर लैब, मैथ्स लेबोरेट्री समेत हर सुविधाएं शामिल की जाएंगी. बोर्ड की ओर से इसके लिए प्रस्तावित बजट भी पास कर दिया गया है. वहीं मॉडल स्कूल में पढ़ाई का स्तर पूरी तरह से गुणवत्तापरक हो इसके लिए भी रिक्त पदों को भी भरा जाएगा.

6 जिलों में चुना जाएगा स्कूल

मेरठ मंडल के अंर्तगत 6 जिले आते हैं. जिनमें मेरठ, बागपत, बुलंदशहर, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, हापुड़ शामिल हैं. इन्हीं जिलों में किसी एक स्कूल का चयन मॉडल स्कूल के लिए किया जाएगा. हालांकि अभी स्कूल का चयन होगा बाकी है.

मॉडल स्कूल बनाने के लिए पत्र आया है. ज्वाइंट डायरेक्टर इसका चयन करेंगे. फिलहाल स्कूलों से रिपोर्ट मांगी गई हैं.

गिरजेश कुमार चौधरी, डीआईओएस, मेरठ.