-इमरजेंसी नंबर 100 सभी के मोबाइल में सेव कराने की पुलिस की पहल

-यूपी 100 ने ट्विटर अकाउंट पर पब्लिक से नंबर सेव करने की रिक्वेस्ट

bareilly@inext.co.in

BAREILLY : पब्लिक की सिक्योरिटी और सेफ्टी के लिए यूपी पुलिस रोजाना नई पहल कर रही है. जब भी कोई इमरजेंसी होती है तो सबसे पहले लोग पुलिस को ही बुलाते हैं. इसीलिए 100 नंबर को इमरजेंसी नंबर बनाया गया है. आजकल लगभग सभी लोग मोबाइल का यूज करते हैं लेकिन इमरजेंसी में किसे कॉल करनी है, इसका ध्यान नहीं रहता है. जैसे-जैसे यूपी 100 की जिम्मेदारियां बढ़ रही हैं, वैसे-वैसे लोग इस पर कॉल भी कर रहे हैं. यही वजह है अब यूपी 100 इमरजेंसी नंबर को सभी के मोबाइल में सेव कराने पहल की है. यूपी 100 ने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट डाली है, जिसमें लिखा है कि क्या आपने 100 नंबर सेव किया.


पोस्ट के जरिए समझाने की कोशिश

यूपी 100 ने जो पोस्ट डाली है, उसमें लिखा है कि राहुल, निधि, उनके माता-पिता और दादा-दादी सभी ने अपने फोन में 100 नंबर सेव किया है. क्या आपने 100 नंबर सेव किया. इसका हैशटैग भी दिया गया है. पुलिस ने पब्लिक से रिक्वेस्ट की है कि अपने सभी रिश्तेदारों, दोस्तों और सहकर्मियों के फोन में यूपी 100 के नंबर सेव कराएं ताकि वह इमरजेंसी में यूपी 100 को कॉल कर हेल्प ले सकें. पुलिस ने एक फोटो और ग्राफिक के जरिए भी समझाने की कोशिश की. जिसके तहत मोबाइल फोन की डमी में लिखा है कि 100 सेव किया. फिर एक दंपत्ति की ग्राफिक बनाई है, उनके नीचे लिखा है कि हम दोनों ने सेव किया, उसके बाद बुजुर्ग दंपत्ति की ग्राफिक बनाई है, जिसके नीचे लिखा है हां हमने भी और अंत में दो बच्चों की ग्राफिक है जिसमें लिखा है कि मैने और मेरी बहन ने भी 100 सेव किया.

यूपी 100 पर बढ़ रहा है भरोसा

कुछ केसेस को छोड़ दें तो यूपी 100 का रेस्पांस लगातार बढ़ता जा रहा है. कुछ दिनों पहले मेरठ के एक मॉल में एक महिला का मोबाइल गायब हो गया था. महिला ने 100 नंबर पर कॉल किया था तो 6 मिनट में यूपी 100 की पीआरवी मौके पर पहुंची थी और 23 मिनट में एक धार्मिक स्थल से मोबाइल बरामद कर लिया गया था. बरेली में भी एक महिला ने यूपी 100 को कॉल कर सड़क किनारे पड़े लावारिस को हॉस्पिटल में एडमिट कराया था और उसने यूपी 100 के रेस्पांस की तारीफ की थी.

1 अगस्त से मौके पर एफआईआर

यूपी 100 पर आने वाले दिनों में लोग अधिक से अधिक कॉल करेंगे, क्योंकि अब यूपी 100 मौके पर उनकी एफआईआर भी दर्ज कर लेगी. गाजियाबाद के बाद बरेली रेंज में इस सिस्टम को 1 अगस्त से लागू किया जा रहा है. एसएसपी बरेली मुनिराज जी ने बताया कि बरेली पुलिस इसको लेकर पूरी तरह से तैयार है और इसे लागू किया जाएगा.