इलाहाबाद में दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद नहीं हो सकता था रिपेयर
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : मुंबई में गुरुवार को क्रैश हुआ चार्टर प्लेन यूपी सरकार ने वर्ष 2014 में ही बेच दिया था। प्लेन में बना यूपी सरकार का लोगो अभी तक न हटाए जाने की वजह से इसकी पहचान को लेकर ऊहापोह की स्थिति बन गयी। राज्य सरकार ने तत्काल इससे जुड़ी जानकारियां मीडिया को देकर स्थिति साफ की। राज्य सरकार के प्रवक्ता के मुताबिक यूपी सरकार का चार्टर प्लेन (रजिस्ट्रेशन नंबर वीटी-यूपीजेड) इलाहाबाद में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसके बाद इसे बेचने का फैसला लिया गया। विमान क्रैश के बाद मलबे के एक हिस्से में यूपी सरकार का लोगो साफ दिख रहा है।

कोठारी बंधुओं की यूवाई एविएशन को बेचा गया था विमान
वर्ष 2014 में इसे पुणे की सिल्वर जुबली ट्रैवल्स लिमिटेड को बेच दिया गया। बाद में यह विमान कंपनी ने कोठारी बंधुओं की यूवाई एविएशन को बेच दिया जो गुरुवार को मुंबई में हादसे का शिकार हो गया। वहीं नागरिक उड्डयन निदेशक सूर्य पाल सिंह गंगवार ने भी इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि इस विमान को बेचा जा चुका था। वर्तमान में यह यूपी सरकार के स्वामित्व में नहीं है। यह विमान वर्ष 1995 में खरीदा गया था। वहीं दूसरी ओर सूत्रों की मानें तो विमान में यूपी सरकार का लोगो लगा होने को लेकर राज्य सरकार द्वारा विधिक कार्रवाई की जा सकती है।

मुंबई प्लेन हादसा : एक फोन काल से फैला घर में मातम

National News inextlive from India News Desk