आगरा:  थाना जगदीशपुरा पुलिस और एसटीएफ ने एक प्रधान समेत दो को गांजे की तस्करी के साथ दबोचा है. पुलिस ने इनके पास से दो गाडि़यों में 10 कुंतल गांजा बरामद किया है. इसकी मार्केट में 50 लाख रूपये की कीमत बताई जा रही है. शातिर ओडिशा से नशे की खेप लेकर आए थे. चेकिंग के दौरान पुलिस ने इन्हें पकड़ लिया.

एक प्रोपर्टी डीलर तो दूसरा प्रधान

पुलिस के मुताबिक पकड़े गए आरोपियों के नाम विशाल अग्रवाल पुत्र स्व. शंकर लाल निवासी द्वारिकापुरी शास्त्रीपुरम, होशियार सिंह पुत्र शिव चरन सिंह निवासी शांती रेजीडेंसी, दहतोरा बताया है. पुलिस के मुताबिक विशाल का प्रोपर्टी डीलिंग और साडि़यों का काम है. जबकि होशियार सिंह मथुरा में थाना बल्देव स्थित गांव अवेरमी का ग्राम प्रधान है.

साडि़यों में छिपा था माल

शातिर आयशर और स्कोडा गाड़ी से नशे की खेप ले जा रहे थे. पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वह माल के ऊपर नई साडि़यां रख देते थे, जिससे देखते में कपड़े का माल लगता था. वह उड़ीसा से माल लेकर आ रहे थे. उनका सरगना कानपुर में बैठता है. सरगना का नाम अमर सिंह बताया गया है. वह मोबाइल से सारा बिजनेस करता है.

सिकंदरा होटल में होती है मीटिंग

पूछताछ में निकल कर आया कि सरगना कई बार गांजे की सप्लाई की मीटिंग आगरा में कर चुका है. वह कई बार सिकंदरा स्थित होटल में सरगना मीटिंग कर चुका है. शातिरों ने तीन महीने पहले 150 किलो गांजा राजस्थान के भिवाड़ी, करौली में खपाया था. शातिरों को प्रति किलो गांजे पर 200 रुपये का कमीशन मिलता था.

बड़े स्तर पर फैला है नेटवर्क

पुलिस के मुताबिक नशे का कारोबार वेस्टर्न यूपी से राजस्थान तक फैला हुआ है. पकड़े गए गांजे की कीमत 50 लाख रुपये बताई गई है. इसकी कीमत 5000 रुपये प्रतिकिलो है. पुलिस के मुताबिक ग्राम प्रधान होशियार सिंह थाना बल्देव से पहले भी जेल जा चुका है. उस पर गैंगस्टर लगा हुआ है. पुलिस ने गुरुवार रात चेकिंग के दौरान शातिरों को मघटई तिराहे से पकड़ा है.

Crime News inextlive from Crime News Desk