12 की हुई गिरफ्तारी

01 महिला भी रही शामिल

06 सॉल्वर रहे शामिल

03 अभ्यर्थी भी अरेस्ट

allahabad@inext.co.in
ALLAHABAD: उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीपीएससी) इलाहाबाद की परीक्षा में पहली बार ऐसा हुआ, जब एसटीएफ को परीक्षा से पहले लगाया गया था. लोक सेवा आयोग और प्रशासन की योजना कामयाब रही और परीक्षा से पहले ही फर्जीवाड़े की फिराक में लगे गैंग को एसटीएफ इलाहाबाद यूनिट की टीम ने धर दबोचा. एसटीएफ ने एलटी ग्रेड सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गैंग का पर्दाफाश करते हुए मुख्य सरगना समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें एक महिला समेत छह सॉल्वर और तीन अभ्यर्थी शामिल है.

एडवांस में हुआ था सौदा
जानकारी के अनुसार इस गैंग से जुड़े अन्य सदस्यों की तलाश में एसटीएफ ने प्रदेश के कई जिलों में छापेमारी की. पकड़े गए आरोपियों के पास से 13 मोबाइल, दर्जनों एडमिट कार्ड, आधार कार्ड, पैन कार्ड और 15 हजार रुपए बरामद हुए हैं. एसटीएफ ने मुखबिर की सूचना पर कर्नलगंज क्षेत्र से शिक्षा माफिया लालापुर निवासी ओम सहाय और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया. इनकी निशानदेही पर छह सॉल्वर और तीन अभ्यर्थी पकड़े गए. पूछताछ में पता चला कि बिहार से सॉल्वर बुलाए गए थे. उन्हें परीक्षा के लिए मोटी रकम मिलनी थी. वहीं अभ्यर्थियों को पास कराने के लिए लाखों रुपये में सौदा हुआ था. जिसमें एडवांस भी जमा कराए गए थे.

गिरफ्तार मुख्य सरगना

1. ओम सहाय निवासी छतहरा तरहार थाना लालापुर इलाहाबाद

2. विनित कुमार निवासी काटीपार मजरा थाना मन्झनपुर कौशाम्बी

3. जितेन्द्र कुमार निवासी काटीपार मजरा थाना मन्झनपुर कौशाम्बी

बिहार से पकड़े गए साल्वर

1. चिन्टू कुमार निवासी भोजपुर बिहार

2. भोला कुमार निवासी पटना बिहार

3. संजू कुमारी निवासी अरवल बिहार

4. कन्हाई पंडित निवासी अरवल बिहार

5. पिन्टू कुमार निवासी औरंगाबाद बिहार

6. सौरभ निवासी पटना बिहार

ये अभ्यर्थी पकड़े गए

1. सुरेश भारतीय निवासी बर्रा कानपुर

2. अशोक कुमार निवासी कोतवाली फतेहपुर

3. अशोक यादव निवासी घूरपुर इलाहाबाद

लोक सेवा आयोग की किसी परीक्षा में पहली बार परीक्षा से पहले एसटीएफ को लगाया गया था. वहीं 100 फीसदी नजर सीसीटीवी के जरिए रखी गई. इसके अलावा सभी जगहों पर वीडियोग्राफी भी करवाई गई.

जगदीश, सचिव लोक सेवा आयोग