-सर्विसलांस के बाद अब साइबर एक्सपर्ट बनेगी एसटीएफ

-आईआईटी के एक्सपर्ट देंगे एसटीएफ को ट्रेनिंग

GORAKHPUR: पब्लिक से लेकर पुलिस तक के लिए लगातार टेंशन बनते जा रहे साइबर किमिनल्स की अब खैर नहीं होगी. अब साइबर वार से निपटने के लिए पुलिस के साथ ही एसटीएफ ने भी कमर कस ली है. मोबाइल और टेलिफोन सर्विलांस में अपने झंडे गाड़ने के बाद अब यूपी एसटीएफ साइबर सर्विलांस में महारथ हासिल करेगी. इसके लिए एसटीएफ को साइबर वॉर के लिए तैयार करने की जिम्मेदारी आईआईटी के एक्सपर्ट संभालेंगे. खुद आईआईटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करने वाले एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह ने साइबर एक्सपर्ट अपने साथी आईआईटीयिंस के साथ इसके एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर) पर काम करना शुरू कर दिया है.

अब तैयार होगी एसटीएफ

एसएसपी एसटीएफ के मुताबिक, साइबर क्राइम सबसे बड़ा संगठित अपराध बनता जा रहा है. ऐसे में जिस तरह एसटीएफ ने मोबाइल फोन सर्विलांस में विशेषज्ञता हासिल की है, उसी तरह साइबर क्राइम को ट्रैक करने के लिए उसे तैयार किया जाएगा. अब यह पुलिस के लिए लगातार चुनौती बनता जा रहा है. एसएसपी के मुताबिक, इसके लिए आईआईटी के साइबर एक्सपर्ट्स से संपर्क किया गया है. ताकि जिन ऑनलाइन और ई-वॉलेट कंपनियों के सर्वर भारत में बेस्ड हैं, उनके अधिकारियों से संपर्क किया जाएगा कि वे जांच में अच्छे से सहयोग करें. वहीं, जिन कंपनियों के सर्वर भारत से बाहर हैं, उनके लिए आईआईटी एक्सपर्ट्स की मदद से एसओपी तैयार किया जाएगा. इसके अलावा केंद्रीय एजेंसियों जैसे आईबी और रॉ से भी मदद ली जाएगी.

आईआईटी के साइबर एक्सपर्ट्स करेंगे ट्रेंड

इतना ही नहीं जल्द आईआईटी के साइबर एक्सपर्ट्स की एक टीम एसटीएफ के साइबर सेल का दौरा करेगी. यहां वे अधिकारियों से बात करेंगे कि साइबर क्राइम से जुड़ी जांचों में किस तरह की परेशानियां आती हैं और इन्हें कैसे दूर किया जा सकता है. इसके अलावा वे बताएंगे कि कैसे नए गैजेट्स और नई तकनीक से साइबर क्राइम से जुड़ी जांचों को अंजाम तक पहुंचाया जा सकता है. जिन कंपनियों के सर्वर देश से बाहर हैं, उनसे डेटा और जानकारियां कैसे जुटानी हैं. इसके लिए भी एसटीएफ को ट्रेंड किया जाएगा. ताकि गोरखपुर सहित अन्य सभी जिलों की एसटीएफ यूनिट साइबर वार से भी निपटने में पूरी तरह सक्षम हो सके.

---------------

साइबर क्रिमिनल्स लगातार सक्रिय होते जा रहे हैं. चूंकि यह साइबर वार के जरिए क्राइम कर रहे हैं. इसलिए इन्हें ट्रैक कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है. इसे देखते हुए एसटीएफ को अब साइबर क्राइम से निपटने के लिए तैयार किया जा रहा है. इसके लिए आईआईटी के साइबर एक्सपर्ट्स की भी मदद ली जाएगी. ताकि जिन ऑनलाइन और ई-वॉलेट कंपनियों के सर्वर भारत में बेस्ड हैं या फिर देश के बाहर हैं, उनसे संपर्क कर इन्हें ट्रैक किया जा सके.

अभिषेक सिंह, एसएसपी, एसटीएफ