कुंभ को लेकर नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना और कैबिनेट मंत्री नंदी ने संतों से की वार्ता

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कुंभ की तैयारियों को लेकर प्रदेश के दो मंत्रियों ने गुरुवार को संतों से आशीर्वाद लेकर मेला सकुशल संपन्न कराने की तैयारियों पर चर्चा की.

दोनों मंत्री सबसे पहले कीडगंज स्थित बड़ा उदासीन अखाड़ा के मुख्यालय पहुंचे और मठ बाघम्बरी गद्दी से सटे आनंद अखाड़ा में कुंभ मेला को भव्य बनाने को लेकर वार्ता की. एक-एक अखाड़े में जाकर दोनों मंत्रियों ने संतों से सनातन परंपरा का हवाला देते हुए आशीर्वाद लिया. साथ ही कहा कि संत सहयोग करें, हम लगातार आते रहेंगे.

इन अखाड़ों में गए मंत्री द्वय

दोनों मंत्रियों ने बड़ा उदासीन अखाड़ा, निर्मल अखाड़ा, नया पंचायती उदासीन अखाड़ा, बाबा मौज गिरि जूना अखाड़ा, आवाहन अखाड़ा, अग्नि अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा, निरंजनी अखाड़ा, निर्वाणी अनि अखाड़ा, महा निर्वाणी अखाड़ा, अटल अखाड़ा व आनंद अखाड़ा आदि के परिसरों में जाकर संतों से बातचीत की. इन अखाड़ों में कुंभ के मद्देनजर कराए जा रहे संत निवास, विश्राम गृह व रसोई घर जैसे निर्माण कार्यो के बारे में जानकारी भी हासिल की. इस मौके पर कमिश्नर डॉ. आशीष कुमार गोयल, कुंभ मेलाधिकारी विजय किरण आनंद, मेयर अभिलाषा गुप्ता नंदी भी मौजूद रहीं.

अखाड़े का पूजन, मठ में भोजन

नगर विकास मंत्री खन्ना ने बैरहना स्थित सुंदरम गेस्ट हाउस के पीछे अग्नि अखाड़े का भूमि पूजन किया. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि की अगुवाई में पांच वेदपाठी ब्राह्माणों ने वैदिक मंत्रोच्चार कर विधि विधान से पूजन कराया. भ्रमण के क्रम में सबसे अंतिम में दोनों मंत्री अल्लापुर स्थित मठ बाघम्बरी गद्दी पहुंचे. यहां मंत्रियों ने संतों, अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ पंगत में बैठकर भोजन किया.

अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

पुलिस लाइंस सभागार में सीवर कार्यो को लेकर शहरियों की दिक्कत पर मंत्री खन्ना ने अधिकारियों को चेतावनी दी. उन्होंने गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई को काम में गुणवत्ता के साथ तेजी लाने की हिदायत दी. दो टूक कहा कि कार्यो में अब सीधी जिम्मेदारी पर्यवेक्षक व नियंत्रण अधिकारियों की होगी. किसी भी तरह की शिकायत मिलने पर अब सीधे अधिशाषी अभियंता स्तर के लोगों पर कार्रवाई की जाएगी.

डीएम ने आज बुलाई बैठक

समीक्षा बैठक के दौरान डीएम सुहास एलवाई ने बताया कि कुंभ के मद्देनजर कार्य कराने वाली सभी संस्थाओं की तीन अगस्त को बैठक बुलाई गई है. इसमें स्थितियों को तत्काल नियंत्रित करने वाली रणनीति तय की जाएगी. मंत्री ने निर्देश दिया कि एक सप्ताह में जो अधिकारी संतोषजनक परिणाम नहीं दे पाते हैं उनके विरुद्ध कार्रवाई प्रस्तावित की जाए.

समीक्षा में यह दिया निर्देश

- हर सौ मीटर पर डस्टबीन का सेट और पांच सौ मीटर पर बड़ा डस्टबीन लगाया जाए.

- कूड़ा प्रबंधन की व्यवस्था को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए संस्था को बढ़ाया जाए.

- सभी भवनों की नम्बरिंग वर्गीकृत रूप से यथा शीघ्र पूरी कराई जाए और उसकी नम्बरिंग नाम से, मेन लाइन व सब लाइन के आधार पर की जाए.