क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : सिटी की साफ-सफाई व्यवस्था पटरी से उतर चुकी है फिर भी एस्सेल इंफ्रा को बार-बार मौका दिया जा रहा है. नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने गुरुवार को अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक में कुछ शर्तो के साथ राजधानी में सफाई का जिम्मा संभाल रही एस्सेल इंफ्रा को सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए अंतिम मौका दिया गया है. इस बैठक में विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह, मेयर आशा लकडा, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय, नगर आयुक्त मनोज कुमार के साथ साथ एस्सेल इंफ ्रा के अधिकारी भी मौजूद थे.

मांगा लिखित जवाब

नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने एस्सेल इंफ्रा के अधिकारियों के कुछ सुझाव के साथ काम करने का मौका दिया. कंपनी के लिखित आश्वासन के बाद काम करने की अनुमति दी गयी है. मंत्री ने कंपनी के अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शहर में गंदगी की शिकायत मिलेगी तो कंपनी को काम नही करने दिया जाएगा. एस्सल इंफ्रा के अधिकारियों ने भी वादा किया है कि अब शिकायत नही मिलेगी.

मदद करेगा विभाग

मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि वेस्ट टू एनर्जी प्लांट के लिए जरूरी मदद के लिए नगर विकास विभाग है. इधर, सिटी के मुख्य मागरें की सफ ाई के लिए मेकेनिकल स्वीपिंग की तैयारी एस्सेल इंफ्रा कर रही है.

सफाई एजेंसी के लिए ये हैं शर्ते

- कंपनी द्वारा 33 वार्ड की सफ ाई की जा रही है, उस सफ ाई से राजधानी की जनता, सरकार, नगर निगम और जनप्रतिनिधियों का विश्वास जीतना होगा.

-15 नवंबर से पहले 33 वार्ड की सफ ाई को बनाया जाएगा. परफॉर्मेस का आधार, सफ ाई अच्छी रही तो 20 नवंबर को अन्य बचे हुए 20 वार्ड की सफ ाई भी दी जाएगी.

-20 नवंबर को 53 वार्ड की जिम्मेदारी देने के बाद दिसंबर तक शहर की साफ- सफ ाई का किया जाएगा आकलन.

-राजधानी रांची में साफ-सफ ाई में नहीं हुआ सुधार तो 31 मई तक हो जाएगी कंपनी की छुट्टी