CALIFORNIA: नई शोध में पता चला है कि पुरुषों के दिमाग के मुकाबले, महिलाओं के दिमाग के ज्यादा हिस्से सक्रिय होते हैं। वह भी विशेष रूप से प्रीफ्रैंटल कॉर्टेक्स में जो कि फोकस और इम्पल्स कंट्रोल और दिमाग के भावनात्मक क्षेत्रों से जुड़ा होता है। यह मनोदशा और चिंता से संबंधित है। कैलिफोर्निया में न्यूपोर्ट बीच, अमेन क्लिनिक्स के फाउंडर व लीड ऑथर डेनियल अमेन के मुताबिक यह लिंग-आधारित मस्तिष्क के अंतर को समझने में सहायता करने के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण अध्ययन है।


क्यों किया रिसर्च?
अल्जाइमर रोग जैसे मस्तिष्क संबंधी विकारों के लिए लिंग-आधारित जोखिम को समझने के लिए हम पुरुषों और महिलाओं के बीच की जाने वाली मात्रात्मक अंतरों को महत्वपूर्ण मानते हैं।


डिजाइनर बच्‍चों की तैयारी में अमेरिका, जानें कैसे होते हैं तैयार और क्‍या है इनकी खासियत

क्या निकला कनक्लूजन?
अध्ययन में पता चला है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में बढ़ा हुआ प्रीफ्रैंटल कॉर्टेक्स ब्लड फ्लो बता सकता है कि क्यों महिलाओं में सहानुभूति, अंतर्ज्ञान, सहयोग, आत्म-नियंत्रण और चिंता के क्षेत्र में अधिक ताकत दिखाने की प्रवृत्ति होती है। अल्जाइमर जर्नल में प्रकाशित अध्ययन महिलाओं के दिमाग के लिम्बिक क्षेत्रों में रक्त के प्रवाह में वृद्धि भी दिखाता है जिससे कि आंशिक रूप से समझा जा सकता है कि क्यों महिलाओं को चिंता, अवसाद, अनिद्र और ईटिंग डिस्ऑर्डर को लेकर अधिक संवेदनशील हैं।

क्‍या राज बताते हैं सड़क किनारे लगे हुए ये रंग बिरंगे मील के पत्‍थर

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

Interesting News inextlive from Interesting News Desk