सीआईए की पहली महिला निदेशक
वाशिंगटन (पीटीआई)। जीना हास्पेल को अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए का निदेशक बनाया गया है। 70 साल में पहली बार इस पद पर किसी महिला को चुना गया है। अमेरिकी संसद में उनके पक्ष में 54 वोट और विरोध में 45 वोट डाले गए। ट्रंप ने ट्वीट कर हास्पेल को इस पद के लिए बधाई दी है। अब हास्पेल जल्द ही इस पद के लिए आधिकारिक रूप से शपथ लेंगी।  

कई जगहों पर कम किया
गौरतलब है कि 61 वर्षीय हास्पेल तीन दशकों से सीआईए की एक अधिकारी के रूप में काम कर रही हैं।  उन्होंने अफ्रीका, यूरोप और दुनिया भर में कई जगहों पर काम किया है।  पिछले साल हास्पेल को सीआईए के डिप्टी डायरेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने पूर्व सीआईए निदेशक माइक (वर्तमान अमेरिकी विदेश मंत्री) के साथ भी काम किया है। हास्पेल पर विपक्ष के साथ मानवाधिकार संस्थाओं ने 2002 में 9/11 हमले के संदिग्धों से पूछताछ के दौरान उन्हें प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था।

मदर टेरेसा की मदद की
सीआईए में अपने करियर के दौरान हास्पेल ने कई बड़े काम किये हैं। अफ्रीका में 80 के दशक में जब वे वहां तैनात थीं, तब उन्होंने मदर टेरेसा की सहायता की। हास्पेल ने सांसदों को आश्वासन दिया कि उनके नेतृत्व में, सीआईए दोबारा 9/11 हमले को लेकर किसी भी संदिग्धों से पूछताछ शुरू नहीं करेगा। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, 'आज अमेरिकी सरकार के पास ऐसा कानून और निति है, जो हिरासत और पूछताछ को पूर्ण रूप से नियंत्रित करता है। ऐसे में किसी व्यक्ति पर सख्त होना नामुमकिन है' बता दें कि जीना हेस्पल अपने करियर के दौरान कई बड़े पद पर रह चुकी हैं। सीआईए की डायरेक्टर बनने से पहले वह केस ऑफिसर, चार बार स्टेशन चीफ, नेशनल रिसोर्सेज डिवीजन की डिप्टी चीफ, राष्ट्रीय गुप्त सेवा की डिप्टी डायरेक्टर और वर्तमान में सीआईए की डिप्टी डायरेक्टर के पद कार्यरत थीं।

मलेशियाई पूर्व पीएम के घर छापेमारी पर पूर्व उप पीएम बोले, अब ये जायेंगे जेल

शाही शादी की तैयारी कर रहे ब्रिटिश राजपरिवार पर हर साल होता है 600 करोड़ का खर्च

International News inextlive from World News Desk