वाशिंगटन (पीटीआई)। अमेरिका ने चेतावनी दी है कि 4 नवंबर के बाद वो उन देशों के लिये मूलभूत रूप से बिलकुल अलग नियम लेकर आ रहा है, जो फिर भी ईरान के साथ किसी तरह का आर्थिक रिश्ता बनाए रखेंगे। गौरतलब है कि अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध 4 नवंबर से पूरी तरह से लागू हो जायेंगे। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, 'कोई गलती मत कीजिये, 4 नवंबर के बाद ईरान के साथ आर्थिक गतिविधियों में शामिल होने वाले देशों के लिए मूलभूत रूप से बिलकुल अलग नियम सेट किया जायेगा।'

भारत को होगा बड़ा नुकसान
ट्रंप प्रशासन के प्रतिबंध के बाद भारत पर इसका बड़ा प्रभाव पड़ सकता है, जो ईरानी तेल के सबसे बड़े आयातकों में से एक है और वर्तमान में रणनीतिक चबहर बंदरगाह को विकसित कर रहा है। हालांकि, इस मामले को लेकर भारत और अमेरिका के बड़े अधिकारी चर्चा कर रहे हैं। इस मुद्दे पर भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने शुक्रवार को अमेरिका में माइक पोंपियो से मुलकात कर बातचीत की थी। दोनों की बैठक के तुरंत बाद माइक पोंपियो ने एक प्रेस कॉन्फेंस का आयोजन किया था।

परमाणु समझौते के बाद बढ़ा तनाव
गौरतलब है कि परमाणु समझौते से अमेरिका के बाहर आने के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया है। अमेरिका ईरान पर नई शर्तो के साथ परमाणु समझौता करने का दवाब डाल रहा था, इसके लिए ट्रंप ने कुछ दिनों पहले ईरानी नेताओं के साथ सीधी बातचीत के लिए पेशकश भी रखी थी लेकिन ईरान इसके लिए तैयार नहीं हुआ। इसके बाद अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कर लिया। इस प्रतिबंधों के तहत ईरान को पेट्रोलियम समेत कई अन्य कारोबारों में भारी नुकसान होगा।

Video : स्‍टेप बाई स्‍टेप देखिए कैसे लांच हुआ दुनिया का सबसे ताकतवर रॉकेट

इस खूबसूरत रोबोट को मिल गई है सऊदी अरब की नागरिकता, खुद सुनिए कि वह इंसानों के साथ क्या कर सकती है!

International News inextlive from World News Desk