- एटीएम की क्लोनिंग कर ग्राहकों को ठग रहे जालसाज

Meerut: कई बैंकों के एटीएम कार्ड ब्लाक हो जाने से ग्राहकों को इन दिनों परेशानी से जूझना पड़ रहा है. आलम यह है कि बैंकों में सुबह से ही ग्राहक एटीएम से जुड़ी परेशानी को लेकर पहुंच रहे हैं. जिस कारण बैंक में भीड़भाड़ बढ़ रही है. बीते कई दिनों से एटीएम की सीक्रेसी साथ छेड़छाड़ की घटनाएं सामने आ रही थी. जिस कारण बैंक ने एटीएम को ब्लाक कर दिया है. यही नहंी बैंक कर्मचारी खाताधारकों को इस बारे में ईमेल और फोन नंबर से जानकारी भी दे रहे हैं.

क्लोनिंग का खतरा

आप एटीएम से रुपए निकालने में सावधानी बरतें. हो सकता है आपके कार्ड की डिटेल नोट की जा रही हो, जालसाजों ने एटीएम में कार्ड स्वैप करने वाले स्थान पर अतिरिक्त स्लॉट स्कीमर और पासवर्ड के लिए स्पाई कैमरा लगा रखा हो. यही से वे कार्ड की डिटेल से क्लोन तैयार कर लेते हैं. लिहाजा बैंकों ने गंभीरता देखते हुए एटीएम ब्लाक कर दिए हैं.

आईनेक्स्ट ने पहले किया था अलर्ट

एटीएम कार्ड से छेड़छाड़ की खबर को आईनेक्स्ट ने पहले ही उजागर किया था. खाताधारकों के साथ एटीएम में ट्रांजेक्शन के दौरान छेड़छाड़ की कई शिकायतें आई थी. मामले की गंभीरता को देखते हुए यूनियन बैंक ने पहले ही कुछ एटीएम को ब्लाक कर दिया था.

हाईटेक हो गए जालसाज

आईटी एक्सपर्ट अनुपम शर्मा के अनुसार अब तक जालसाज एटीएम में गड़बड़ी होने की बात करके उपभोक्ताओं को झांसा देकर उनके खाते से रकम निकाल लेते थे. कई बार उपभोक्ताओं का कार्ड चोरी करके खाते में आसानी से सेंध लगाई जाती थी. लेकिन अब ठगों ने जालसाजी का हाईटेक रास्ता चुना है. उनके द्वारा मशीन में अतिरिक्त स्लॉट और स्पाई कैमरा लगाकर ग्राहक की पूरी डिटेल हासिल कर ली जाती है.

एटीएम में अतिरिक्त स्लॉट

उन्होंने बताया कि मशीन में कार्ड स्वैप करने वाले स्थान पर स्कीमर डिवाइस लगा दी जाती है. एटीएम की स्क्रीन और की बोर्ड पर नजर रखने के लिए केबिन में स्पाई कैमरा फिट कर दिया जाता है. जब ग्राहक अपना कार्ड मशीन में स्वैप करता है. तो डिवाइस कार्ड को स्कैन कर लेती है. साथ ही केबिन में लगा कैमरा स्क्रीन और पासवर्ड रिकार्ड कर लेता है.ठगों के पास कई कार्डो की डिटेल होती है. इसके बाद उनके क्लोन तैयार किए जाते हैं. जिस खाते में बैलेंस अधिक होता है. उसमें से रकम निकाल ली जाती है.

6 लाख एटीएम कार्ड किए ब्लॉक

क्राइम ब्रांच के अलर्ट के बाद एसबीआई ने देश भर में छह लाख से ज्यादा एटीएम को ब्लॉक कर दिया है. बताया जा रहा कि भारतीय उपभोक्ताओं के एटीएम से चीन में पैसे निकाले जा रहे थे. जिसके बाद भारत में अलर्ट जारी किया गया है. मेरठ में भी यूनियन बैंक, स्टेट बैंक सहित अन्य बैंकों ने एक सीरीज के हजारों कार्ड ब्लॉक कर दिए हैं.

ये सावधानी रखें

- एटीएम मशीन में कार्ड स्वैप करने वाले स्थान पर यदि स्कीमर लगा है. तो वह हिस्सा उठा हुआ दिखाई देगा.

-स्कीमर को आसानी से निकाला भी जा सकता है.

-एटीएम के अलावा यदि और कहीं स्पाई कैमरा लगा हो तो पक्का है कि जालसाजों ने मशीन में स्कीमर कैमरा लगाया है.

-ऐसी मशीन का इस्तेमाल नहीं करें. तत्काल पुलिस को सूचना दें.

-नेट या मोबाइल बैकिंग का इस्तेमाल किसी के सामने न करें, बैंक कभी ट्रांजेक्शन पासवर्ड नहीं पूछता

-किसी के पर्सनल सवालों जैसे पास वर्ड या जन्म की तारीख से जुड़े सवालों का जवाब न दें

-किसी अपरिचित को एटीएम कार्ड न दें

वर्जन

पिन चोरी कर उपभोक्ताओं के खातों में सेंध लगाई जा रही है. जिसको ध्यान में रखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से कुछ एटीएम ब्लाक किए गए हैं.

अविनाश तांती, लीड बैंक मैनेजर

--

सुरक्षा के मद्देनजर कुछ एटीएम को ब्लाक कर दिया गया है. खाताधारकों को नए एटीएम जल्द ही मुहैया कराए जाएंगे.

संजय सिंह, एजीएम, एसबीआई कैंट ब्रांच