स्टूडेंट्स तनाव से रहें दूर, पैरेंट्स दें बच्चों को सकारात्मक माहौल

देहरादून। उत्तराखंड बोर्ड का हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट कल सुबह 11 बजे घोषित किया जाएगा. इस बार हाईस्कूल में 1,46,166 व इंटरमीडिएट में 1,30,094 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी. रिजल्ट को लेकर स्टूडेंट्स का तनाव में रहना स्वाभाविक है, लेकिन काउंसलर रिजल्ट से पहले तनावमुक्त रहने की सलाह दे रहे हैं.

पैरेंट्स की अहम जिम्मेदारी

न्यूरो साइकोलॉजिस्ट और काउंसलर डॉ. सोना कौशल गुप्ता का कहना है कि माहौल को हल्का रखने की जिम्मेदारी पैरेंट्स की है. कहा कि रिजल्ट से पहले बच्चों के साथ पॉजिटिव एटिट्यूड के साथ व्यवहार करें, इस दौरान ज्यादा एंबिशियस न हों, बच्चों पर अपनी उम्मीदें थोपने की कोशिश भी न करें. डॉ. सोना बताती हैं कि यूके बोर्ड के स्टूडेंट्स को दूसरे बोर्ड स्टूडेंट्स के जैसे कांउसलिंग नहीं मिल पाती, जिस वजह से रिजल्ट को लेकर वे ज्यादा तनाव में रहते हैं. ऐसे में बच्चों को तनाव मुक्त रखने के लिए पैरेंट्स की अहम जिम्मेदारी है.

पैरेंट्स के लिए सलाह

-बच्चों से बार-बार रिजल्ट को लेकर डिस्कशन न करें.

-भविष्य सुनहरा है, अपार सम्भावनाएं हैं. बच्चे से इस प्रकार पॉजिटिव विचार विमर्श करे.ं

-करियर को लेकर बातचीत कर सकते हैं कि क्या ऑप्शन्स हो सकते हैं.

-रिजल्ट का पोस्टमॉर्टम न करें, आस-पास या अन्य बच्चों से कंपेरिजन न करें.

स्टूडेंट्स को सलाह

-रुटीन के हिसाब से वर्क करें, तनाव से दूर रहें.

-बार-बार रिजल्ट के बारे में न सोचें. बस रिजल्ट कैसे पता करना है ये सोचें.

-अपने करियर को लेकर बातचीत करें, क्या-क्या ऑप्शन्स हो सकते हैं.