- मुख्य सचिव ने सचिवालय में की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की समीक्षा

- रैंकिंग में उत्तराखंड को मिले 96.13 प्रतिशत अंक

DEHRADUN: ईज ऑफ डूइंग में उत्तराखंड इस साल की रैंकिंग में नवें स्थान के साथ टॉप टेन में है. एक वर्ष में ही सिंगल विंडो सिस्टम के तहत पूंजी निवेश के लिए अनुकूल वातावरण बनाकर देश में क्ब् रैंक का जम्प लगाकर राज्य आगे बढ़ा है. शुक्रवार को मुख्य सचिव ने सचिवालय में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की समीक्षा की.

तेलंगाना को मिले 98 प्रतिशत अंक

सीएस ने उत्तराखंड के नवें स्थान पर आने को लेकर खुशी जताई. कहा कि रैंकिंग में उत्तराखंड को 9म्.क्फ् प्रतिशत अंक हासिल हुए. जबकि पहले रैंक पाने वाले तेलंगाना राज्य को 98 प्रतिशत अंक मिले हैं. इस तरह से उत्तराखंड ने कनेक्टिविटी और अन्य भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद लीडर्स राज्यों की श्रेणी में स्थान बनाया है. सीएस ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन बिंदुओं को इस वर्ष हासिल नहीं किया जा सका, उसके लिए गंभीरता से प्रयास करने हैं. सभी नगर निकायों का मास्टर प्लान बनाना है. लैंड रिकार्ड को डिजिटलाइज करना है. वाणिज्य संबंधी विवादों के लिए जिलों में विशेष अदालतें, कोर्ट फीस का प्रोसेस फीस के साथ संविलन, ई-सम्मन, डिजिटल हस्ताक्षर से कोर्ट के आदेश, सब रजिस्ट्रार ऑफिस, भूमि दस्तावेज व स्थानीय नगरों से डाटाबेस का एकीकरण आदि बिंदुओं पर कार्य करना है. सीएस ने इसके लिए सभी अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की. इस मौके पर प्रमुख सचिव उर्जा उमाकांत पंवार, प्रमुख सचिव एमएसएमई मनीषा पंवार, सचिव आईटी दीपक कुमार, अपर सचिव आवास मुरूगेशन आदि उपस्थित थे.