घर में हर एक कमरे का होता है अपना खास महत्‍व

feature@inext.co.in

KANPUR : नमस्कार मित्रों, शयन कक्ष घर का एक ऐसा स्थान है जहां व्यक्ति सारे दिन का कामकाज खत्म करके चैन से परिवार के साथ कुछ समय बिताता है। या यूं भी कह सकते हैं कि व्यक्ति दोबारा से अपनी ऊर्जा में आ जाता है, जो उसको सारे दिन के कार्यों को करने के लिए और खुश रहने के लिए चाहिए होती है।

घर या फ्लैट में हर जगह का अपना महत्व होता है। फिर वह चाहे हमारा ड्रॉइंग रूम हो, डाइनिंग हाल हो, किचन या फिर बेडरूम। इसमें भी यदि हम बात करें मास्टर बेडरूम की तो उसका वास्तु वाइब्स की दृष्टि से सही जगह होना जरूरी है। घर में यह स्थान दक्षिण पश्चिम में होना चाहिए। इस स्थान पर शयन कक्ष में घर-परिवार का मुख्य व्यक्ति या मुखिया रहे तो अच्छा है। यहीं पर आकर वह स्वयं को सहज भाव में महसूस करता है इसलिए इस जगह की साफ-सफाई और आंतरिक साज-सज्जा पर विशेष ध्यान देना चाहिए। यदि ऐसा नहीं होगा तो व्यक्ति यहां दक्षिण-पश्चिम के शयन कक्ष में बजाय आराम के परेशानी व तनाव महसूस करेगा, क्योंकि यदि वास्तु वाइब्स को ध्यान में रखते हुए यहां की आंतरिक साज-सज्जा का ध्यान नहीं रखा गया तो दिक्कतों का सामना भी करना पड़ सकता है। जब घर का मुखिया यहां शयन कक्ष में रहता है, तो परिवार में भी उसका बाकी सदस्यों के साथ तालमेल बेहतर बनता है। यहां का यह कक्ष आकार की दृष्टि से वर्गाकार या आयताकार हो। यहां इस तरह के शयन कक्ष की आंतरिक साज-सज्जा वास्तु अनुकूल अच्छी होती है। इस शयन कक्ष का द्वार अंदर की ओर खुले तो अच्छा है। यहां सोने के लिए पलंग इस तरह से लगा हुआ होना चाहिए कि सिर दक्षिण की तरफ और पैर उत्तर की तरफ हो। इस तरह सोना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होता है। सोते समय यह ध्यान रखें कि पैर दरवाजे की तरफ न हों। शयन कक्ष में कपड़े वगैरह रखने की अलमारी दक्षिण पश्चिम दीवार से लगी हुई हो।


पलंग या बेड के नीचे न रखें फालतू चीजें


यदि यहां पलंग के नीचे कुछ सामान रखने का स्थान बना हुआ है तो यहां सीजन के कपड़े रखें बाकी स्टोर की तरह इसका इस्तेमाल न करें। यदि बच्चे के लिए छोटा पलंग भी रखना हो तो यहां रखा जा सकता है। व्यक्ति के लिए पलंग भी इस तरह से लगा हुआ हो जिसे दोनों तरफ से इस्तेमाल में लाया जा सके। यहां के शयन कक्ष के रंग दीवारों पर ऐसे हो जो आंखों को न चुभे क्योंकि यहां यदि गहरे रंग होंगे तो कुछ समय तो अच्छे लगेंगे पर बाद में व्यक्ति के स्वभाव में इस से उग्रता आने लगती है। और इसका सीधा असर व्यक्ति के आराम में, उसके स्वभाव में दिखता है। यहां कमरे में ठीक सामने की ओर पूरे परिवार के साथ वाली फोटो फ्रेम की हुई लगाएं। कमरे में अकेले पति-पत्नी की फोटो भी पश्चिम की दीवार के साथ लगा सकते हैं। कमरे के अंदर कभी भी गमले न लगाएं। पोस्टर भी फूलों का ही लगाएं। कभी भी डूबते हुए जहाज का पोस्टर शयन कक्ष में न लगाएं। शयन कक्ष में पलंग के ऊपर बीम या परछत्ती नहीं होनी चाहिए। ड्रेसिंग टेबल पलंग के दाएं या बाएं रख सकते हैं, पर सामने नहीं।

दक्षिण-पश्चिम में बनाएं शयन कक्ष,तो जिदंगी में आ जाएगी नई ऊर्जा

 
वास्‍तु सलाह : सवाल - जवाब

मेरी शादी में बहुत परेशानी आ रही है। दो बार बात पक्की होते-होते रुक गई। ऐसा क्यों? मेरी जन्मतिथि 12 सितंबर 1995 हैं। -प्रिया खनूजा

द वल्र्ड ,सेवन ऑफ वैंड्स और द एम्प्रेस का साथ आपके जीवन में बहुत जल्दी ही विवाह की बात पक्की कराएगा, पर आप जब भी विवाह से संबंधित बात करें तो मंगलवार के दिन न करें। गुरुवार के दिन पीले वस्त्रों को पहनें। अपने इष्ट पर पीले फूल अर्पित करें, घर में फूलों का पोस्टर अपने शयन कक्ष में लगाएं।

मेरे नए घर में बच्चों की पढ़ाई का कमरा किस तरफ हो? हम पति-पत्नी घर में किस तरफ कमरा लें? हमारा घर पूर्व मुखी है। -सीमा कौर

अपने लिए दक्षिण पश्चिम की तरफ कमरा लें और बच्चों के लिए उत्तर-पूर्व की तरफ वाला कमरा उनकी पढ़ाई के लिए बनाएं। कमरे में स्टडी टेबल इस तरह लगाएं कि पढ़ते समय उनका मुख उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा की तरफ हो। स्टडी टेबल पर अमेथिस्ट क्रिस्टल रखें।

मैं बहुत समय से मानसिक तकलीफ से गुजर रहा हूं। क्या ऐसा घर के वास्तु के बिगडऩे से हो सकता है? मैंने पिछले वर्ष कुछ कंस्ट्रक्शन घर में करवाया है। ऐसा लग रहा है कि शायद तभी से दिक्कतें बढ़ गई हैं। -भारत गुप्ता

आपके घर की वास्तु वाइब्स बिगडऩे से भी ऐसा हो सकता है। कभी-कभी जाने-अनजाने अपने मन से कराया हुआ निर्माण भी वास्तु के अनुकूल नहीं होता, जिससे जीवन में तकलीफें आ सकती हैं।

मेरा जन्म 20 अगस्त को हुआ। मैं यह जानना चाहता हूं कि इस वर्ष मैं अपनी जॉब बदलने की सोच रहा हू। क्या यह सही रहेगा? -पवन तिवारी

द सन, सेवन ऑफ कप्स और किंग ऑफ स्वॉड्र्स का साथ आपके लिए बेहतर जॉब के संकेत दे रहा है और यह 11 जुलाई के बाद होगा। इसके पहले आप कोई भी या किसी भी तरह का परिवर्तन अपनी जॉब में न करें और न ही किसी को यह बताएं कि आप जॉब में परिवर्तन का सोच रहे हैं।

By: Prem Panjwaani, Tarot card & Vastu expert


यह भी पढ़ें:

वास्तु टिप्स: घर में आएगी खुशहाली और सकारात्मक ऊर्जा, बस करें ये काम

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk