गणेश जी के विभिन्न स्वरूप समस्त दिशाओं मे हमारी रक्षा करते हैं। वास्तु पुरुष की प्रार्थना पर ब्रह्माजी ने वास्तुशास्त्र के नियमों की रचना की थी। वास्तुदेवता की संतुष्टि गणेशजी की आराधना के बिना अकल्पनीय है। नियमित गणेशजी की आराधना से वास्तु दोष उत्पन्न होने की संभावना बहुत कम होती है।

1. यदि घर के मुख्य द्वार पर एकदंत की प्रतिमा या चित्र लगाया गया हो तो उसके दूसरी तरफ ठीक उसी जगह पर दोनों गणेशजी की पीठ मिली रहे इस प्रकार से दूसरी प्रतिमा या चित्र लगाने से वास्तु दोषों का शमन होता है।

2. भवन के जिस भाग में वास्तु दोष हो उस स्थान पर घी मिश्रित सिन्दूर से स्वस्तिक दीवार पर बनाने से वास्तु दोष का प्रभाव कम होता है।

वास्तु टिप्स: घर में ऐसे लगाएं गणेश जी की प्रतिमा,हर दोष होगा दूर

3. घर या कार्यस्थल के किसी भी भाग में वक्रतुण्ड की प्रतिमा अथवा चित्र लगाए जा सकते हैं। किन्तु यह ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि किसी भी स्थिति में इनका मुंह दक्षिण दिशा या नैऋत्य कोण में नहीं होना चाहिए।

4. घर में बैठे हुए गणेशजी तथा कार्यस्थल पर खड़े गणपतिजी का चित्र लगाना चाहिए, किन्तु यह ध्यान रखें कि खड़े गणेशजी के दोनों पैर जमीन का स्पर्श करते हुए हों। इससे कार्य में स्थिरता आने की संभावना रहती है।

5. भवन के ब्रह्म स्थान अर्थात केंद्र में, ईशान कोण एवं पूर्व दिशा में सुखकर्ता की मूर्ति अथवा चित्र लगाना शुभ रहता है।

वास्तु टिप्स: घर में ऐसे लगाएं गणेश जी की प्रतिमा,हर दोष होगा दूर

6. टॉयलेट अथवा ऐसे स्थान पर गणेशजी का चित्र नहीं लगाना चाहिए, जहाँ लोगों को थूकने आदि से रोकना हो। यह गणेशजी के चित्र का अपमान होगा।

7. सुख, शांति, समृद्धि की चाह रखने वालों के लिए सफेद रंग के विनायक की मूर्ति या चित्र लगाना चाहिए।

-ज्‍योतिषाचार्य पंडित श्रीपति त्रिपाठी

वास्तु टिप्स: अगर चाहते हैं किस्मत आप पर भी हो मेहरबान तो करें ये 5 उपाय

वास्तु टिप्स: घर के खिड़की-दरवाजे भी हो सकते हैं कंगाली के कारण, जानें उपाय


Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk