नई दिल्ली  (आईएएनएस)। शिक्षक दिवस के मौके पर बुधवार को दिल्ली में शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इस साल सिर्फ 45 शिक्षकों को ही यह पुरस्कार मिलेगा। इसमें राज्य के, केंद्रीय सरकारी स्कूलों के, सीबीएसई या सीआईएससीई के शिक्षक शामिल है। उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू इन पुरस्कारों को वितरित करेंगे। वहीं आज शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुरस्कार के लिए चयनित इन शिक्षकों से मुलाकात करेंगे।

सम्मानित होने वाले शिक्षकों की संख्या काफी कम
इस दौरान शिक्षकों व पीएम के बीच विचारों का आदान-प्रदान होगा। बता दें कि बीते वर्षाें की अपेक्षा इस बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित होने वाले शिक्षकों की संख्या काफी कम है। सरकार ने पात्रता मानदंडों और इस वर्ष के पुरस्कारों के लिए अन्य नियमों में कुछ बदलाव किए हैं। इस बार पुरस्कार के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया आॅनलाइन अपनार्इ गर्इ थी। इससे शिक्षकों को आत्म-नामांकन के साथ सीधे पुरस्कार के लिए आवेदन का मौका मिला।

इस वर्ष पुरस्कार के लिए किए गए कर्इ बड़े बदलाव

इस वर्ष न्यूनतम पात्रता मानदंड को लागू किया जिससे युवा शिक्षकों को भी अवसर मिल सके। अभी तक कम से कम 15 साल अध्यापन करने वाले शिक्षकों को ही पुरस्कार मिलता था। इस बार सरकार ने 300 से अधिक पुरस्कारों को कम करते हुए 45 शिक्षकों को चुना है। मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि 6,692 शिक्षकों ने इस पुरस्कार के लिए आवेदन किया था। इसमें सभी राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों से कुल 152 नाम प्रस्तावित किए गए थे।

अपने टीचर को थैंक्‍स कहने का पीवी सिंधु अनोखा अंदाज, इन्‍होंने भी कहा थैंक्‍यू टीचर

5 वैदिक गुरु, जिनका कलयुग में भी चलता है स‍िक्‍का

National News inextlive from India News Desk