- ट्रांस गोमती के कई इलाकों में भीषण जल भराव, घरों में कैद हुए लोग, स्कूलों में फंसे बच्चे

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW: शुक्रवार सुबह हुई तीन घंटे की बारिश में राजधानी पानी-पानी हो गई. लगातार बारिश ने नगर निगम की व्यवस्था की पोल खोल दी. जल भराव से आम जन जीवन ठप हो गया. लोग घरों में कैद रहे और बारिश से पहले स्कूल पहुंच गए बच्चों को जल भराव के चलते मुसीबत का सामान करना पड़ा. शहर के कई इलाकों में जलभराव से लोगों को खासी दिक्कतें हुईं.

रोड पर भरा पानी गाडि़यों को लगी ठंड

एक सप्ताह से आंख मिचौली कर रहे बादल शुक्रवार को जमकर बरसे. जानकीपुरम, अलीगंज, इंदिरा नगर, चौक, आलमबाग, राजाजीपुरम समेत शहर के कई इलाकों की सड़क सुबह करीब 8 बजे से शुरू हुई बारिश के चलते डूब गई. मेन रोड और गलियों में लोगों के कमर तक पानी भर गया. गाडि़यां पानी में बंद होकर फंस गईं. पानी में उतरकर लोग गाडि़यों पर धक्का लगाते नजर आए. बारिश के चलते कई इलाकों में लोगों के घर के भीतर तक पानी पहुंच गया और वह कई घंटे कैद रहे.

इंतजार करते रहे स्कूली बच्चे

स्कूल टाइम के बाद शुरू हुई बारिश के चलते छुट्टी के समय बच्चों को खासा इंतजार करना पड़ा. कई स्कूलों के आस-पास मेन रोड पर भीषण जल भराव के चलते पैरेंट्स लेट से पहुंचे. यहीं नहीं जल भराव के चलते बच्चों को गोद में लेकर पानी के बीच से गुजरना पड़ा. जल भराव के चलते मरीजों और तीमारदारों को भी परेशानी उठानी पड़ी. उधर, आम जन-जीवन ठप रहा. रोड किनारे लगने वाले खोमचे और ठेले बंद रहे. लोगों को आने-जाने के लिए सवारियां तक नहीं मिली. कई लोग समय से आफिस तक नहीं पहुंच सके.

नगर निगम के दावों की खुली पोल

बारिश में जल भराव से मुक्ति दिलाने का नगर निगम का दावा भारी बारिश में बह गया. जल भराव न हो इसके लिए शहर में बड़े पैमाने पर नाला नालियों की सफाई कराई गई थी. जलभराव वाले एरिया में एक टास्क टीम बनाई गई थी, जो तत्काल लोगों क मदद पहुंचा सके. कई इलाकों में जलभराव तो हुआ, लेकिन न टीम नजर आई और न ही नाला सफाई का सच दिखा.