RANCHI: राजधानी में डेंगू और चिकनगुनिया का कहर जारी है. इसके बावजूद सिटी के कई इलाकों में वॉटरलॉगिंग को लेकर रांची नगर निगम गंभीर नहीं है. वहीं कचरे का उठाव नहीं होने से अब दूसरे इलाकों में भी डेंगू-चिकनगुनिया फैलने का डर सताने लगा है. इस डर से लोग शाम ढलते ही अपने घरों की खिड़कियां-दरवाजे बंद कर ले रहे हैं, ताकि मच्छर उनके घरों में न जा सके. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या पूरे शहर में बीमारी फैलने के बाद ही सफाई व्यवस्था सुधरेगी?

.......

सदर हॉस्पिटल

सदर हॉस्पिटल में लोग इलाज कराने के लिए आते हैं. लेकिन हॉस्पिटल के ठीक बाहर कई दिनों से पानी जमा है. यहां मच्छर और बरसाती कीड़े पनप रहे हैं. ऐसे में हॉस्पिटल में आने वाले मरीज भी बीमार हो जाएंगे.

पीएनटी कॉलोनी

वीआइपी इलाकों में गिनती किए जाने वाली पीएनटी कॉलोनी की हालत भी काफी खराब है. जहां न तो रेगुलर कचरे का उठाव हो रहा है और न ही वॉटरलॉगिंग से निजात दिलाई जा रही है.

सुंदर विहार

जल निकासी की व्यवस्था नहीं होने के कारण गली-मोहल्ले में पानी जमा है. वहीं रुक-रुक कर हो रही बारिश से पानी खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है. इसमें मच्छर का लार्वा आसानी से पनप सकता है.

मोरहाबादी

मोरहाबादी के आनंद ग्राम लेन में भी स्थिति काफी खतरनाक है. जहां नाले का पानी रोड पर बह रहा है. वहीं सफाई नहीं होने से मच्छर, कीट-पतंग का भी प्रकोप बढ़ गया है. इससे लोग परेशान हैं.

कोकर

बारिश खत्म होने के बाद भी रोड किनारे पानी जमा है. लेकिन इसे हटाने को लेकर निगम के कर्मचारी गंभीर नहीं है. वहीं छिड़काव नहीं होने से उसमें भी लार्वा पनप रहा है. धीरे-धीरे बीमारी पूरे शहर में फैल जाएगी.