गवाहों की सुरक्षा के लिए गनर की मांग बढ़ी

गनर उपलब्ध होने के बावजूद हो गया मर्डर

Meerut. गवाहों को सुरक्षा देने के मामले में पुलिस के हाथ-पांव फूले हुए हैं. दरअसल पुलिस ने 1500 गवाहों को चिह्नित किया है, जिन्हें तीन अलग-अलग श्रेणियों में बांटा गया है. गौर करने वाली बात यह है कि एसएसपी ऑफिस में पिछले 20 दिनों में 150 लोगों ने गवाही के मामले में सुरक्षा हेतू गनर के लिए प्रार्थना-पत्र दिए हैं. लेकिन पुलिस केवल 15-20 लोगों को ही रोजना मांग के अनुसार गनर मुहैया करा पा रही है. ऐसे में बाकी बचे 130 गवाहों की सुरक्षा का जिम्मा किसका है.

गनर भी नहीं

सुमित जाट की धमकी के चलते सावित्री देवी व उसका बेटा मितन गत 31 जनवरी को एसएसपी मंजिल सैनी से मिले थे. उन्होंने बताया था कि गांव में उनके बेटे नरेंद्र की सुमित जाट व उसके भाई सुजित ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस केस में गवाही चल रही है और जेल में बंद सुमित जाट व बाहर उसका भाई सुजित व अन्य लोग उन्हें लगातार जान से मारने की धमकी दे रहे है. हालांकि एसएसपी मंजिल सैनी ने उन्हें तुंरत ही गनर उपलब्ध करा दिया था. गनर मिलने के बावजूद सावित्री देवी की बदमाशों ने उनके घर पर ही गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी.

गवाही के मामले में सुरक्षा को लेकर काफी लोग सुरक्षा मांगने के अर्जी दे रहे हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए मांग के अनुसार सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही है.

मंजिल सैनी एसएसपी

आंकड़ों पर नजर

20 दिन में गवाहों की सुरक्षा के लिए गनर की मांग को लेकर एसएसपी ऑफिस में आए 150 प्रार्थना-पत्र.

1500 गवाह तीन श्रेणियों में चिन्हि्त

15-20 गवाहों को रोजाना दिए जा रहे गनर

4 गवाहों का हो चुका मर्डर

7 पुलिसकर्मी गवाहों पर हमले को लेकर हो चुके हैं सस्पेंड

12 पुलिसकर्मी क्राइम ब्रांच के हो चुके हैं लाइन हाजिर