सात समंदर की दूरियों को घंटो में तय किया जा सकता है
कानपुर।
हवाई जवाज यातायात का एक ऐसा साधन है, जिससे सात समंदर की दूरियों को घंटो में तय किया जा सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत के हवाई जहाज ने कब पहली बार विदेश के लिए उड़ान भरी थी? अगर नहीं जानते तो आइये जानें।

जे आर डी टाटा और जामनगर के नवाब अमीर अली खान सवार थे
8 जून 1948 का ये वही दिन है जब पहली बार एयर इंडिया की फ्लाइट ने मुंबई से विदेश के लिए उड़ान भरी थी। एयर इंडिया के आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, एयर इंडिया की यह उड़ान 5,000 मील का फासला काहिरा और जेनेवा होते हुए लंदन तक तय किया गया। इस पहली उड़ान में जे आर डी टाटा और जामनगर के नवाब अमीर अली खान जैसे दिग्गज सवार थे।

सिर्फ 1,720 रुपए में सफर
उस वक्त मुंबई से लंदन पहुंचने में फ्लाइट को 24 घंटे से भी ज़्यादा का वक़्त लगा था, जबकि अब ‌सिर्फ़ 10 घंटे लगते हैं। एयर इंडिया ने इस उड़ान से पहले एक विज्ञापन भी जारी किया था जिसमें लिखा था 'काहिरा और जेनेवा होते हुए लंदन तक उड़िए मेरे साथ, वो भी सिर्फ 1,720 रुपए में!' एयर इंडिया यह मालाबार प्रिंसेज फ्लाइट 40 सीटों वाला लॉकहीड L-749 था और उस समय इसे उड़ाने का जिम्मा के आर गुजदार को दिया गया था।

एयरपोर्ट पर ही रह गया पूर्व नागरिक उड्डयन मंत्री का सामान और प्‍लेन ने भर दी उड़ान

BSNL और Air India सरकार पर बोझ, सबसे ज्‍यादा घाटे वाली कंपनियों की सूची में टॉप

National News inextlive from India News Desk