कानपुर। भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट में बेस्ट की जंग शुरु होने में बस दो दिन बाकी रह गए। पांच मैचों की इस टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला एक अगस्त को एजबस्टन में होगा। इंग्लैंड में टेस्ट रिकॉर्ड की बात करें तो भारत ने अब तक यहां कुल 17 टेस्ट सीरीज खेली हैं जिसमें सिर्फ तीन में उन्हें जीत मिली जबकि 13 बार हार का सामना करना पड़ा हैं। वहीं एक सीरीज ड्रा रही। अंग्रेजों के खिलाफ उन्हीं की धरती पर जीतना कभी आसान नहीं रहा। भारत को पहली जीत 1971 में मिली थी। उसके बाद दूसरी जीत 1986 में आई मगर बीच में 1982 में जब भारतीय टीम इंग्लैंड दौरे पर गई तो ये सीरीज जीत-हार से ज्यादा सुनील गावस्कर की टूटी हड्डी को लेकर चर्चा में रही।

1982 में खेला गया था वो मैच
ईएसपीएन क्रिकइन्फो के डेटा के मुताबिक, 1982 में भारतीय टीम सुनील गावस्कर की अगुआई में तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने इंग्लैंड गई थी। लॉर्ड्स में खेले गए पहले मैच में भारत 7 विकेट से हार गया था। इसके बाद दूसरे टेस्ट भारत ने किसी तरह ड्रा करवाया। अब बारी थी तीसरे और आखिरी टेस्ट की। गावस्कर के पास सीरीज की हार से बचने के लिए इस टेस्ट को जीतने के अलावा कोई दूसरा ऑप्शन नहीं था। खैर अंतिम टेस्ट खेलने दोनों टीमें मैदान में उतरी। इंग्लिश कप्तान ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया। 100 रन के अंदर इंग्लैंड के दोनों ओपनर बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके थे। अब क्रीज पर आए एलन लैंब और इयॉन बॉथम, दोनों ने 175 रन की साझेदारी की।
जब इंग्लैंड के एक खिलाड़ी ने मैदान में तोड़ दी थी गावस्कर के पैर की हड्डी
इयॉन बॉथम की तूफानी पारी से टूटी थी गावस्कर की हड्डी

एलन तो शतक बनाकर चलते बने, मगर बॉथम क्रीज पर अंगद की तरह पांव जमा चुके थे। उस दिन बॉथम ने रिकॉर्डतोड़ पारी खेली और टेस्ट में सबसे तेज दोहरा शतक जड़ दिया। दाएं हाथ के बल्लेबाज बॉथम उस दिन 208 रन बनाकर पवेलियन लौटे मगर साथ में भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर को भी अपने साथ ले गए। दरअसल हुआ यूं कि गावस्कर सिलि प्वॉइंबट पर फील्डिंग कर रहे थे और गेंद थी रवि शास्त्री के हाथों में। द गार्जियन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, शास्त्री की गेंद पर बॉथम ने ऐसा शॉट मारा कि बॉल सीधे गावस्कर के बाएं पैर में जा लगी। यह शॉट इतना जोरदार था कि लिटिल मास्टर वहीं जमीन पर गिर गए। उन्हें फिर स्ट्रेचर से मैदान के बाहर ले जाया गया। जांच में पता चला उनके पैर की हड्डी टूट गई है। फिर क्या गावस्कर के पैर में प्लॉस्टर चढ़ा और वह पूरे मैच के लिए बाहर हो गए।
जब इंग्लैंड के एक खिलाड़ी ने मैदान में तोड़ दी थी गावस्कर के पैर की हड्डी
टेस्ट से बाहर होना पड़ा था गावस्कर को

भारत यह मैच जीत तो नहीं सका मगर गावस्कर की अनुपस्थिति में भारतीय टीम ने मैच ड्रा जरूर करा लिया। मैच खत्म होने के बाद इयॉन बॉथम ने अपने उस शॉट के लिए गावस्कर से माफी भी मांगी। बॉथम ने कहा था, 'मुझे पता है यह काफी तेज प्रहार था। मैं सनी (गावस्कर) को टेस्ट से बाहर करने के लिए माफी मांगता हूं।' यही नहीं बॉथम ने गावस्कर के पैर में जो प्लॉस्टर चढ़ा था उसमें अपने साइन भी किए थे।

इंग्लैंड के खिलाफ पांचों टेस्ट हारने के बाद भी नंबर 1 रहेगी टीम इंडिया, जानिए कैसे

जब इंग्लैंड के खिलाफ जीरो रन पर लगभग आधी भारतीय टीम लौट गई थी पवेलियन

Cricket News inextlive from Cricket News Desk