कानपुर। क्या आप इन दोनों स्‍क्रीन्‍स के अंतर को जानते हैं? आइए जानते हैं कि आपके स्‍मार्टफोन के लिए कौन सा डिस्‍प्‍ले है सबसे बेहतर।

Amoled डिस्प्ले
यह टेलीविजन में इस्तेमाल होनी वाली ओलइडी डिस्प्ले टेक्नोलॉजी का ही एक वैरिएंट है। सबसे पहले एलइडी का मतलब जानते हैं। इसका मतलब लाइट इमिटिंग डायोड है। इसके बाद ओ का मतलब होता है ऑर्गेनिक और एम का मतलब होता है एक्टिव मैट्रिक्स, जो किसी भी पिक्सल को बेहतर क्वालिटी देने में सक्षम होता है। एमोलेड में ओएलइडी डिस्प्ले की सभी खासियतें होती हैं, जैसे- कलर रिप्रोडक्शन, बेहतर बैटरी लाइफ, हाई ब्राइटनेस और शार्पनेस। इसके अलावा, एमोलेड डिस्प्ले में टीएफटी यानी थिन फिल्म ट्रांजिस्टर भी शामिल होता है, जो पिक्सल को सही दिशा में भेजने के पूरे प्रोसेस को आसान और स्मूद बना देता है। वहीं, एक्टिव मैट्रिक्स की मदद से टीएफटी को अलग-अलग पिक्सल को ऑपरेट करने का कंट्रोल मिल जाता है।

आपके फेवरेट स्मार्टफोन का डिस्‍प्‍ले amoled है या lcd,जानिए कौन है सबसे बेहतर?

एलसीडी डिस्प्ले
एलसीडी की बात करें तो यह स्मार्टफोन्स में सबसे ज्यादा देखने को मिलता है। इसका मतलब है लिक्वड क्रिस्टल डिस्प्ले। एलसीडी डिस्प्ले में एक डेडिकेटड व्हाइट बैकलाइट होती है। यह ब्लू टिंट के साथ आता है, क्योंकि व्हाइट लाइट सभी कलर्स का मिश्रण होता है। इसके अलावा, एलसीडी डिस्प्ले में एक्टिव और पैसिव मैट्रिक्स दोनों होता है। किस फोन में कौन-सा मैट्रिक्स दिया जाएगा, यह उसकी जरूरत और कीमत पर निर्भर करता है।

कौन है बेहतर
एमोलेड डिस्प्ले को देखा जाए, तो यह भविष्य के स्मार्टफोंस के लिए बेहतर है, लेकिन दोनों ही स्‍क्रीन्‍स के कुछ फायदे हैं और कुछ नुकसान भी..

कीमत
दोनों ही तकनीकों में पहला मुख्य अंतर कीमत है। अगर आप एमोलेड डिस्प्ले वाला बजट स्मार्टफोन ढूंढ रहे हैं, तो यह बेहद मुश्किल साबित हो सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि एलसीडी डिस्प्ले काफी सस्ती कीमत में बनाए जा सकते हैं, जबकि एमोलेड या ओएलइडी डिस्प्ले को बनाने में ज्यादा लागत लगती है।

कलर्स
किसी भी डिस्प्ले की क्वालिटी उसकी शार्पनेस और कलर्स से मापी जाती है। केवल तकनीक के आधार पर किसी डिस्प्ले को मापा नहीं जा सकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि अगर दो मैन्युफैक्‍चर्र एक ही तकनीक से किसी डिस्प्ले को बनाते हैं, तो उनमें अंतर करना मुश्किल होता है। अगर केवल कलर्स को देखें तो एमोलेड के हाई-कॉन्ट्रासिंग कलर्स यूजर को बेहतर क्वालिटी देते हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि एमोलेड डिस्प्ले का हर एक पिक्सल अपनी लाइट प्रोड्यूस करता है, जबकि एलसीडी के पिक्सल की लाइट का सोर्स बैकलाइट होता है। एमोलेड में ज्यादा कलर्स होते हैं, जबकि एलसीडी में व्हाइट कलर ही होता है। इसलिए ही एमोलेड डिस्प्ले के कलर्स ज्यादा बेहतर होते हैं, क्योंकि इसके व्हाइट्स में येलो और रेड टिंट दिया गया होता है।

आपके फेवरेट स्मार्टफोन का डिस्‍प्‍ले amoled है या lcd,जानिए कौन है सबसे बेहतर?

ब्राइटनेस
एमोलेड का लो लाइट ब्राइटनेस लेवल अच्छा नहीं है, जबकि एलसीडी इस सेगमेंट में बेहतर परफॉर्म करता है। ऐसे में अगर आप धूप में स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं, तो एलसीडी डिस्प्ले ज्यादा बेहतर रिजल्ट उपलब्ध कराता है।

बैटरी खपत
बैटरी खपत मामले में फोन का डिस्प्ले भी एक अहम कारक माना जाता है। अगर एमोलेड फोन में स्‍की्न बंद है, तो आपकी बैटरी की खपत कम होगी, क्योंकि फोन में ब्लैक बैकग्राउंड रहता है। लेकिन एलसीडी डिस्प्ले को एक डेडिकेटेड बैकलाइट चाहिए होती है, तो ऐसे में इसमें बैटरी की खपत ज्यादा होती है। अगर एलसीडी स्‍क्रीन के साथ कोई कंपनी ऑलवेज ऑन डिस्प्ले देती है, तो इससे बैटरी जल्दी खत्म होगी। इसी के चलते मोबाइल कंपनियां एमोलेड स्‍क्रीन के साथ ऑलवेज ऑन डिस्प्ले उपलब्‍ध कराती हैं।

फोन खो जाए तो अपना WhatsApp अकाउंट तुंरत कीजिए डीएक्टिवेट, वर्ना...

हाथ से टाइपिंग करना भूल जाइए... बोलकर अपनी भाषा में कीजिए टाइप, ये ऐप्‍स दिल खुश कर देंगी

फोन कॉल में कोई नहीं पहचान पाएगा आपकी आवाज, अगर यूज करेंगे ये कमाल की ऐप

Technology News inextlive from Technology News Desk