- खुफिया टीम को मिली जानकारी, अलग-अलग किराए के मकान में रह रहे हैं युवक, पार्क में मीटिंग करने के बाद निकलते हैं घूमने

kanpur@inext.co.in

खुफिया टीएम से मिली एक जानकारी ने कानपुर पुलिस के कान खड़े कर दिए हैं. साउथ सिटी के एक एरिया में कुछ संदिग्ध युवक लगातार मूवमेंट कर रहे हैं. ये संदिग्ध युवक अलग-अलग मकानों में किराये पर रह रहे हैं. वे सब सुबह ग्रुप बनाकर अलग-अलग रास्तों में निकल जाते हैं और देर रात को लौटते हैं. खुफिया टीम को मिली इस जानकारी के बाद पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है. कई बाहरी युवकों के शहर में संदिग्ध तरीके से रहने से इलाकाई लोग खौफजदा हैं. कुछ स्थानीय लोगों ने बिना पहचान बताए पुलिस के आला अफसरों को संदिग्ध लोगों की जानकारी दी है.

पंद्रह दिन पहले आए हैं युवक

खुफिया एजेंसियों से मिली जानकारी के मुताबिक गुजैनी के सी ब्लॉक स्थित तीन मकानों में ये संदिग्ध रह रहे हैं. क्षेत्र में रहने वाले एक युवक के मुताबिक करीब पंद्रह दिन पहले ये संदिग्ध युवक यहां रहने आए थे. इनकी संख्या 20 से 25 है. ये कहां से आए हैं और कहां जाते हैं? इस बारे में किसी को जानकारी नहीं है. वे सुबह एक पार्क में एकत्र होते हैं. वहां मीटिंग करते हैं. इसके बाद वे अलग-अलग रास्तों पर निकल जाते हैं. वे दूसरों से बात तो करते हैं, लेकिन अपने बारे में कुछ भी बताने से बचते हैं. पहचान संबंधी सवाल पूछे जाने पर दूसरी बात करने लगते है.

कोड वर्ड में लिखते हैं

इलाकाई युवकों के मुताबिक इन संदिग्ध युवकों के पास डायरी है. वे दिनभर मूवमेंट करने के बाद डायरी में कुछ लिखते हैं, लेकिन वे क्या लिखते हैं. इस बारे में उनको जानकारी नहीं है. उन्होंने बताया कि डायरी देखी थी, लेकिन कोड वर्ड में लिखा होने से उन्हें कुछ समझ में नहीं आया. उन लोगों ने डायरी में नक्शा भी बनाया है. उसके सामने नंबर और संकेत के निशान बने हुए हैं. इससे इलाकाई लोगों का शक और गहरा गया है. जिसके बाद उन्होंने पुलिस को खुफिया तरह से इसकी जानकारी दी. अब पुलिस की कई टीमें इन पर गोपनीय तरीके से नजर रख रही हैं.

बिना पुलिस वैरीफिकेशन के रह रहे

इन संदिग्ध युवकों ने मुंह मांगे रेट पर किराये का कमरा लिया है. एक कमरे में पांच से छह युवक रह रहे हैं. मुंह मांगा रेट मिलने से मकान मालिक ने भी उनका पुलिस वैरीफिकेशन नहीं कराया है. स्थानीय पुलिस को भी इसके बारे में जानकारी नहीं है.

बुजुर्गो से बचते हैं, बच्चों से बात करते हैं

ये संदिग्ध युवक उम्रदराज लोगों से बात नहीं करते हैं. उम्रदराज लोगों से सामना होने पर वे अलग हटकर चले जाते हैं. वे ज्यादातर 15 से 30 साल के युवकों से ही बात करते हैं.

कुंडली खंगाल रही है आईबी

ये संदिग्ध युवक कौन हैं. इस बारे में पुलिस को ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन आईबी ने इन संदिग्ध युवकों की कुंडली को खंगालना शुरू कर दिया है. इसके अलावा एलआईयू और थाना पुलिस भी इन लोगों के बारे में विस्तार से जानकारी जुटा रही है.

पुलिस अफसर ने पुष्टि की

आईजी आलोक सिंह को इस संबंध में जानकारी हुई है. उनका कहना है कि उन्होंने संदिग्ध युवकों के बारे में पता लगाने के लिए स्थानीय पुलिस के साथ एक स्पेशल टीम को लगाया है. जल्द ही सच्चाई का पता चल जाएगा. अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी.