गलत गतिविधियों से जुड़े अकाउंट्स पर बोला हमला

कानपुर। पॉपुलर सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म टि्वटर ने अपने प्‍लेटफॉर्म पर दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों को अंजाम देने यानि लोगों को बेवजह ट्रोल करने या फिर गलत नियत से लोगों को उकसाने का काम करने वाले लगभग सभी टि्वटर अकाउंट्स को सस्‍पेंड कर दिया है। वॉशिंगटन पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने पिछले 2 महीनों के दौरान करीब 70 मिलियन अकाउंट्स पर हमला बोला है, जो ऑनलाइन मीडिया पर गलत चीजें और जानकारियां शेयर करके बवाल बढ़ाते रहते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक इन 7 करोड़ खातों को सस्‍पेंड करने वाले टि्वटर ने अक्‍टूबर 2017 के मुकाबले मई-जून में करीब दो गुने टि्वटर अकाउंट्स डिलीट कर दिए हैं।

फेसबुक की तरह ही टि्वटर पर भी था जबरदस्‍त दबाव

दिनों दिनों सोशल मीडिया पर ट्रोल और स्‍पैम या फेक न्‍यूज या जानकारियों के कारण दुनिया भर के देश परेशान चल रहे हैं। डेलीमेल ने बताया है कि पिछले काफी दिनों से दुनिया भर यूजर्स और सरकारों को टि्वटर पर यह दबाव था कि वो स्‍पैम और एब्‍जूजिव लैंग्‍वेज यूज करने वाले टि्वटर अकाउंट्स के खिलाफ आखिर एक्‍शन क्‍यों नहीं ले रहा है। इसी मामले में कार्रवाई करते हुए टि्वटर ने लगातार 60 दिनों तक सभी फेक और विवादित अकाउंट्स के खिलाफ एक मुहिम चला दी है और कथित रूप से करीब 70 मिलियन खाते डिलीट भी कर डाले हैं।

टि्वटर ने हर दिन ड‍िलीट किए 10 लाख से ज्‍यादा अकाउंट्स! वजह जानना है जरूरी

टि्वटर ने हर हफ्ते लाखों स्‍पैम अकाउंट्स को भेजा नोटिस

पिछले महीने ही टि्वटर ने अपनी ब्‍लॉग पोस्‍ट में बताया था कि वह अपनी सुरक्षा नीतियों को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है, और इसके लिए उसके सिस्टम ने 9.9 मिलियन से अधिक संभावित स्पैम या ऑटोमेटेड खातों को पहचाना और उन्‍हें ऐसा न करने के लिए नोटिफाई भी किया। हालांकि वाशिंगटन पोस्‍ट को टि्वटर ने बताया कि फेक और स्‍पैम अकाउंट्स के खिलाफ चलाए जा रहे इस अभियान के चलते साल के अगले क्‍वार्ट्रर में उसके टोटल यूजर्स की संख्‍या में कमी आ सकती है। वैसे कंपनी ने कहा है कि उसके द्वारा डिलीट किए गए ज्‍यादातर खाते रोजाना एक्टिव भी नहीं रहते हैं। हाल ही में टि्वटर के प्रवक्‍ता ने द वर्ज को बताया कि कंपनी ने अपने इस अभियान को लेकर अपने इंवेस्‍टर्स को भी जानकारी दे दी है कि इसके कारण अगले कुछ महीनों तक टि्वटर की टोटल यूजर बेस में कुछ कमी आ सकती है।

गूगल का प्‍लान, कॉल सेंटर्स से इंसानों को हटाकर लगाएगा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंट वायस कंप्‍यूटर!

अब स्मार्टफोन की पूरी स्क्रीन ही बन जाएगी फिंगर सेंसर! इस टेक्‍नोलॉजी का है कमाल

कार के बाद स्मार्टफोन के लिए भी आ गए एयरबैग, जो उसे टूटने नहीं देंगे

Technology News inextlive from Technology News Desk