क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : शादी के बाद दहेज में कार व पांच लाख नहीं मिलने पर एक विवाहिता का धोखे से मातृत्व हक छीन लेने का मामला सामने आया है. इस बाबत पीडि़ता ने मंगलवार को महिला थाने में पति समेत ससुराल पक्ष के छह लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है. एफआईआर में उन्होंने बताया कि प्रेग्नेंट होने का बाद पति ने धोखे से उसे गर्भपात की दवा खिला दी. इसका पता उस वक्त चला, जब जब पेट दर्द व ज्यादा खून का बहाव होने पर डॉक्टर के पास गई. चेकअप के दौरान पता चला कि गर्भपात के कारण ऐसी स्थिति पैदा हुई.

हो रही है जांच

विवाहिता द्वारा पति समेत ससुराल के छह सदस्यों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने के बाद महिला थाने ने जांच शुरू कर दी है.महिला थाना की एएसआइ मारगे्रट तिर्की को मामले की जांच का जिम्मा दिया गया है. इस बाबत जल्द ही आरोपियों से पूछताछ की जाएगी. इसके बाद आगे की कार्रवाई होगी.

4 दिसंबर 2016 को हुई थी शादी

महिला थाना को दिए आवेदन के अनुसार, 4 दिसंबर 2016 को अरुण के साथ उसकी शादी हुई थी. लेकिन, शादी के कुछ ही दिन बाद से दहेज के लिए ससुराल वालों ने प्रताडि़त करना शुरू कर दिया. पति ने मायके से दहेज में पांच लाख रुपये और कार लाने को कहा. जब अपने स्तर से मामले को निपटारा करने का प्रयास की, तो वे मारपीट करने लगे. ऐसे में ससुराल वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करानी पड़ी.

काउंसलिंग के बाद संबंध और बिगड़े

विवाहिता के मुताबिक, कुछ दिनों पहले महिला थाना की ओर से पति के साथ काउंसलिंग कराई गई थी. लेकिन, इसके बाद पति व ससुराल वालों के साथ संबंध और बिगड़ गए. पति व ससुराल वालों ने पहले की तुलना में ज्यादा प्रताडि़त करना शुरू कर दिया.