सरायकेला : आनन-फानन में उन्हें टीएमएच ले जाया गया, जहां डॉक्टर्स ने प्रमिला को मृत घोषित कर दिया. घटना की सूचना मिलने के बाद एसपी चंदन कुमार सिन्हा एवं एसडीपीओ अविनाश कुमार मौके पर पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी ली. पुलिस प्रथम दृष्टया इसे सुसाइड का मामला मान रही है. हालांकि, उन्होंने सुसाइड क्यों किया, इसकी छानबीन की जा रही है.

परिजन घर पर थे मौजूद

शुक्रवार को दिन के 4.30 बजे की यह घटना है. इस दौरान घर पर पति द्वारिका नाथ ठाकुर, माँ एवं दोनो बच्चे मौजूद थे. हालांकि, प्रमिला ने उस वक्त अपने को गोली मारी, जब पति टॉयलेट में थे और उनकी मां बच्चों को घुमाने बाहर जा रही थी. गोली की आवाज सुनकर मां ने जैसे ही दरवाजा खोला, प्रमिला गिरी पड़ी थी. पति द्वारिका ठाकुर ने आईटीआई थाना को तुरंत इंफॉर्म किया. इसके बाद थाने में पोस्टेड हुबलाल महतो बाइक से आए और उन्हें लेकर टीएमएच गए, पर तबतक मौत हो चुकी थी.

पति-पत्‍नी में नहीं था कोई विवाद

एसपी चंदन सिन्हा को मृतका की सास ने बताया कि उनके बेटे और बहू में किसी तरह का कोई विवाद नहीं था. घटना से पहले भी घर में किसी तरह का झगड़ा नही हुआ था. उन दोनों का एक तीन वर्षीय पुत्री व एक वर्ष का पुत्र है. मृतिका प्रमिला ठाकुर गिरीडीह जिला के बिरनी थाना क्षेत्र की रहने वाली थी, जबकि द्धारिका नाथ ठाकुर भी गिरीडीह जिला के बगोदर प्रखंड के रहने वाले हैं. 2012 बैच के दारोगा हैं द्वारिका द्धारिका नाथ ठाकुर 2012 बैच के दारोगा है. इससे पूर्व वह आर आई टी थाना मे प्रशिक्षु पुलिस पदाधिकारी के रूप में कार्य कर चुके है. उसके बाद राजनगर व कुचाई थाना में पदस्थापित रह चुके है. कुछ दिन पहले ही कुचाई थाना से उनको पुलिस लाईन में हाजिर किया गया था.

Crime News inextlive from Crime News Desk