lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : आईपीएस सुरेंद्र दास के भाई ने उसकी पत्नी रवीना व परिजनों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि रवीना व उसके परिजन सुरेंद्र को उन लोगों से संबंध न रखने के लिये दबाव बनाते थे और ऐसा न करने पर उन्हें प्रताडि़त किया जाता था। इसी से तंग आकर सुरेंद्र ने जहर खाकर सुसाइड किया है। उन्होंने कहा कि वे भाई के अंतिम संस्कार के बाद रवीना व उसके परिवारीजनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएंगे। आईपीएस सुरेंद्र दास का शव रविवार देरशाम उनके पीजीआई एरिया के एकतानगर में गंगा विहार कॉलोनी स्थित घर लाया गया। शव के साथ उनकी पत्नी डॉ। रवीना, उसके पिता डॉ। रावेंद्र और अन्य परिजन भी थे। रवीना व उसके परिजनों को देखते ही सुरेंद्र के परिजन बिफर पड़े। बड़े भाई नरेंद्र दास ने बताया कि सुरेंद्र के आईपीएस में सेलेक्ट होने के बाद बीती 9 अप्रैल 2017 को मेट्रीमोनियल वेबसाइट के जरिये रवीना के साथ शादी हुई थी। पर, विदा होकर घर आने के अगले ही दिन रवीना हंगामा कर वापस कानपुर स्थित मायके लौट गई। उसे उनका लिविंग स्टैंडर्ड पसंद नहीं था। काफी मान-मनौव्वल के बाद रवीना रिसेप्शन में शामिल होने के लिये सीधे कानपुर से कार्यक्रम स्थल पहुंची थी।

बनाती थी दबाव
नरेंद्र ने बताया कि रवीना शादी के बाद से ही सुरेंद्र पर दबाव बनाती थी कि वह अपनी मां और अन्य परिवारीजनों से संबंध तोड़ ले। हर बार सुरेंद्र रवीना को समझाने की कोशिश करता लेकिन, वह उसे लगातार प्रताडि़त करती रहती थी। इसी प्रताडऩा की वजह से बीते तीन महीनों से सुरेंद्र ने अपनी मां तक से बात नहीं की। नरेंद्र ने बताया कि शादी के तीन महीने बाद ही सुरेंद्र ने घर आकर कहा था कि वह रवीना से तलाक ले लेगा, लेकिन उन लोगों ने ही उसे समझाया कि समय के साथ रवीना का व्यवहार बदल जाएगा। पर, उसकी हरकतें बढ़ती चली गईं। नरेंद्र ने कहा कि रवीना व उसके परिजनों की प्रताडऩा से तंग आकर ही उनके भाई ने जहर खाकर सुसाइड किया है।


बेटे की तरह पाला
सुरेंद्र दास परिवार में सबसे छोटे थे। पिता रामचंद्र दास का 2008 में उनका देहांत हो गया। पहले सुरेंद्र बलिया में रहते थे और जवाहर नवोदय विद्यालय में हाईस्कूल पास करने के बाद वे भाई नरेंद्र के पीजीआई के एकतानगर में गंगा विहार कॉलोनी के घर पर रहने लगे। नरेंद्र ने सुरेंद्र को बेटे की तरह पाला। आईआईटी खडग़पुर से बीटेक इलेक्ट्रिकल की पढ़ाई पूरी करने के बाद वर्ष 2014 में सुरेंद्र आईपीएस में सेलेक्ट हो गए। भाई नरेंद्र का त्याग और मेहनत सफल हो चुकी थी। लेकिन, शादी के बाद रवीना ने सुरेंद्र को उनके पिता जैसे भाई और मां तक से संबंध तोडऩे को लेकर दबाव बनाना शुरू कर दिया था। जिसे वे तनाव में थे।

पत्नी को 'आई लव यू' कहकर कानपुर एसपी ने खाया जहर, पढ़ें क्या-क्या लिखा सुसाइड लेटर में

Crime News inextlive from Crime News Desk