-शहर में खुलेआम जाम छलका रहे शराबी

-थानों के सामने तो कहीं मंदिर के पास हर शाम जमा होते हैं शराब पीने वाले

-नशे में धुत युवक करते हैं तांडव

सीन-1

लक्सा थाना के सामने शाम ढलते ही महफिल सजने लगती है. शराब के शौकीन जुटने लगते हैं. सबके हाथ में जाम होता है और उसके बाद तो पूरा इलाका मयखाना बन जाता है. देर रात तक जाम झलकता है.

सीन-2

लंका-अस्सी रोड के तिराहे पर अंधेरा होते ही अच्छी-खासी भीड़ जमा है. सब नशे और अपने-अपने मिजाज में हैं. शराब-बीयर पीने वाले बेरोकटोक अपना गला तर कर रहे हैं. नशा चढ़ा तो गाली-गलौज से लेकर मारपीट तक हो रहा है.

शहर के चौराहे मयखाने बन गए हैं. देसी, अंग्रेजी शराब और बीयर गटकने के शौकीन सड़क पर ही खुलेआम जाम लड़ाते हैं. इसके बाद नशे में धुत युवकों का तांडव होता है. गाली-गलौज से लेकर मारपीट तक होता है. चंद दिनों पहले नशे में ही एक दर्जन युवकों ने लंका पर सीवर का काम करा रहे जल निगम के जेई और ठेकेदारों पर जानलेवा हमला कर दिया था. यह कंडीशन शहर के अधिकतर एरिया की है. लबे रोड जाम गटकने वालों से त्रस्त पब्लिक ने पुलिस प्रशासन सहित आबकारी में दर्जनों शिकायतें दर्ज कराई है लेकिन नतीजा सिफर है.

हर एरिया का हाल एक जैसा

लबे सड़क जाम लड़ाने वालों से पूरा शहर परेशान है. कहीं शराब की दुकान के अंदर पीने-पिलाने का इंतजाम है तो कहीं खुलेआम सड़क पर नशे की व्यवस्था है. हालत यह है कि लक्सा थाने के ठीक सामने शाम को शराबियों का जमावड़ा लग जाता है. लंका-अस्सी रोड के तिराहे पर शराबियों की भीड़ जमा रहती है. शिवाला स्थित शापिंग काम्पलेक्स के पास और सिगरा स्थित एक मॉल के पीछे नशेडि़यों का अड्डा बना हुआ है. भेलूपुर, महमूरगंज, सिगरा, नदेसर, अर्दली बाजार, पांडेयपुर, आशापुर, सारनाथ आदि एरिया में खुलेआम सड़क पर शराब पी जाती है.

नियम-कानून ताक पर

कुछ दिन पहले ही लंका थाना के साकेत नगर कालोनी में नशे में धुत कार सवारों ने बाइक पर सवार एक दंपत्ति को टक्कर मारी. उनके साथ अभद्रता की. लंका के प्रफुल्ल नगर कालोनी में कुछ दिन पहले शराबियों ने एक डॉक्टर के कार में तोड़फोड़ की. सिगरा के छित्तूपुर में शराबियों ने एक मकान को निशाना बनाया था.

रूल्स नहीं हो रहे फॉलो

आबकारी ने इस बार देसी, अंग्रेजी सहित बीयर की दुकानों के खुलने-बंद होने का समय बदल दिया है. दुकानों के दोपहर 12 बजे से रात 10 बजे तक ही खुलने का आदेश है. मगर, रूल्स कहीं फॉलो नहीं हो रहा. आंख खुलते ही देसी शराब की दुकानें खुल जा रहीं जो देर रात तक आंख बंद होने तक अंग्रेजी-बीयर की खुली रहती हैं.

बार में जारी है कारोबार

शराब-बीयर की दुकानों की तरह मॉडल शॉप-बार रेस्टूरेंट पर भी यही नियम लागू किया गया है. मगर, बीयर बार में नियम ताक पर रख दिया गया है. रथयात्रा स्थित एक काम्प्लेक्स, सिगरा थाना के सामने, मलदहिया, महमूरगंज सहित लंका में तो रात बारह बजे भी वाइन, बीयर अवेलेबल हो रहा. रात में इसे लेकर मारपीट भी होती रहती है. एक पखवारे पहले रथयात्रा स्थित कॉम्प्लेक्स में इसी बात को लेकर जमकर मारपीट भी हुई थी, सिगरा थाना को स्थिति संभालनी पड़ी थी.

आवंटित दुकानें

285

देसी शराब

165

अंग्रेजी शराब

143

बीयर

8

माडल शॉप