patna@inext.co.in
PATNA : ठेकेदार ने बिना लाइन ब्रेक किए ही मजदूरों को काम पर लगा दिया। काम के दौरान अचानक मजदूरों के शरीर से आग निकलने लगी। एक-एक कर 10 मजदूर जमीन पर गिर पड़े। संयोग अच्छा जो लाइन ब्रेक हो गई। लेकिन उनकी हालत नाजुक हो गई। हादसा बाढ़ रेलवे स्टेशन के पास मंगलवार को सुबह उस वक्त हुआ जब नए ट्रैक पर ट्रैक्शन का काम हो रहा था।

ऐसे हुआ हादसा
मजदूरों को तार खींचने के लिए लगाया गया था। ड्रॉप आर्म लगाने के लिए डीटीसी बूम पर ठेकेदार बिना पावर Žलॉक लिए काम करवा रहा था। काम के दौरान ही उनकी सीढ़ी टूटकर गिरकर ओएचई वायर से टकरा गई। इस दौरान 10 मजदूर बिजली के झटके से झुलस गए।

एक्शन में आए रेल अफसर
घटना की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी बनाई गई है। मुख्य बिजली वितरण इंजीनियर जांच के लिए बाढ़ पहुंचे। मुख्य विद्युत इंजीनियर एवं उप मुख्य विद्युत इंजीनियर समेत अन्य अधिकारी मंगलवार को घंटों कैंप करते रहे। रेल प्रशासन ने निर्माण विभाग के दो सुपरवाइजर एवं बख्तियारपुर डिपो के एक सुपरवाइजर को निलंबित कर दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही रेल एसपी अशोक कुमार सिंह तथा आरपीएफ कमांडेंट मौके पर पहुंच गए।

घटना में लापरवाही से फूटा आक्रोश
घटना के पीछे ठेकेदार की लापरवाही की बात सामने आते ही स्थानीय लोग काफी आक्रोशित हो गए और रेलवे ट्रैक को पहले जाम किया फिर जमकर तोडफ़ोड़ भी की। जब पुलिस पहुंची तो उग्र लोगों ने पथराव शुरू कर दिया, जिससे अफरातफरी मच गई। इसके बाद लोगों की भीड़ बाढ़ स्टेशन पहुंच गई और रेल पुलिस कार्यालय, स्टेशन मास्टर के कक्ष और दूसरी मंजिल पर बने वीआइपी कक्ष में भी तोडफ़ोड़ की।

यह हुए हैं घायल
घायलों में गोलू कुमार, राजू कुमार, संजय कुमार, रवि कुमार, सुधीर कुमार, गुरुदास, फूलचंद, गणेश कुमार, प्रदेश कुमार शामिल हैं। मजदूर धनबाद और जामताड़ा
के रहने वाले बताए जाते हैं। घायल मजदूरों को प्राथमिक उपचार के बाद पटना रेफर कर दिया गया। करंट से झुलसे मजदूरों को पटना रेफर किए जाने के बाद एंबुलेंस की समस्या बन गई। प्रशासन ने दूसरे सरकारी अस्पतालों से एंबुलेंस मंगाकर उन्हें पीएमसीएच भेजा। घटना के बाद ठेकेदार फरार हो गया है। घटना के कारण तीन घंटे तक रेल परिचालन बाधित रहा।

तड़पते रहे मजदूर, नहीं मिला इलाज


* केबिन के पास मजदूर नए ट्रैक पर लगाए गए बिजली के खंभों पर ट्रैक्शन वायर टांग रहे थे।
* दोनों तरफ से मजदूर रस्से से बांधकर तार को खींच रहे थे, जबकि कुछ मजदूर सीढ़ी लगाये हुए थे।
* कुछ मजदूर पोल पर और कुछ सीढ़ी पर थे, इसी दौरान अप रेल लाइन से एक ट्रेन गुजरने लगी।
* ट्रेन आते ही सीढ़ी पकड़े मजदूरों ने संतुलन खो दिया और बिजली प्रवाहित तार की चपेट में आ गए।
* घायल मजदूर धनबाद और जामताड़ा के रहने वाले हैं।
* मजदूर तड़पते रहे, लेकिन रेल पुलिस के नहीं आने से इलाज में देरी हुई।
* घायल मजदूरों को ग्रामीणों ने ही उपचार के लिए अनुमंडल अस्पताल भेजा।

ये है घटनाक्रम
11:30 बजे सुबह मंगलवार को हुई घटना

10 मजदूर बिजली के हाई वोल्टेज से झुलसे

02 मजदूरों की हालत ज्यादा गंभीर है

75 प्रतिशत से अधिक दो मजदूर जल गए हैं

01 किमी दूर घटना स्थल से था बाढ़ स्टेशन

आरक्षण की मांग में हिंसा पड़ी महंगी, कोर्ट ने हार्दिक पटेल संग तीन लोगों को दो साल की जेल की सजा सुनाई

अपने इन 5 नए वीड‍ियो से मौज करने को बोले वायरल वीड‍ियो स्‍टार हार्दि‍क पटेल, पढ़ें 5 खास बातें

Crime News inextlive from Crime News Desk