लम्बे समय से बीमारी से जूझ रही थी, आधी रात घर से निकली

परिजन कर रहे थे तलाश, जवाहर पुल के नीचे मिला शव

आगरा. बुधवार को एक महिला ने यमुना में सुसाइड का प्रयास किया था पुलिस ने उसे किसी तरह बचा बचाया. शुक्रवार को फिर से एक महिला ने यमुना में छलांग लगाई उसका शव शनिवार को जवाहर पुल के नीचे यमुना में पड़ा मिला. महिला की चप्पल और दुपट्टा यमुना किनारा लोहिया नगर में पड़े मिले. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया है.

लम्बे समय से बीमारी से जूझ रही थी

लोहिया नगर, बल्केश्वर निवासी 45 वर्षीय ममता पत्‍‌नी कोशलेंद्र पोनिया बीमारी से पीडि़त थी. पति का जयपुर में ट्रांसपोर्ट का काम है. दो बेटियों की शादी हो चुकी है, 15 वर्षीय बेटा सूरज इंटर में पढ़ रहा है. गुरुवार की रात परिवार घर में सोया हुआ था. रात डेढ़ बजे करीब ममता दबे पैर घर से निकल गई. सुबह जब परिवार जागा तो उसके जाने की जानकारी हुई.

किनारे पर मिली चप्पल, दुपट्टा

परिवार उसकी तलाश कर रहा था. परिजनों ने आस पास व बाहर की रिश्तेदारी में भी पता कर लिया लेकिन उसका पता नहीं चल सका. परिजन तलाश करते हुए लोहिया नगर यमुना किनारे पर पहुंचे तो उसकी चप्पल व दुपट्टा किनारे पर पड़े मिले. इसके बाद परिजनों को उसके यमुना में कूदने की आशंका बनी. परिजन अब यमुना किनारे उसकी तलाश में जुट गए.

पुल के नीचे पड़ा मिला शव

शनिवार की सुबह परिजन उसकी तलाश करते हुए जवाहर पुल की तरफ गए तो वहां पर किनारे पर महिला का शव दिखाई दिया. जब नजदीक जाकर देखा तो शव ममता का था. इसी के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. परिजनों का कहना था कि ममला लम्बे समय से बीमार चल रही थी. लेकिन उसके सुसाइड के पीछे रहे कारण के बारे में नहीं बताया.

पहले छात्रा कर चुकी है सुसाइड

2 अप्रैल को खंदौली निवासी इंटर की छात्रा ने यमुना में कूछ कर जान दी थी. प्रेमी ने उसे ठुकरा दिया. उसका शव अम्बेडकर पुल के नीचे पड़ा. मामले में परिजनों ने अपहरण का आरोप लगाया.

महिला को बचाया

2 अगस्त को मलपुरा, बरारा निवासी महिला घरेलु विवाद में घर से निकल गई. यहां वह यमुना किनारा रोड पर किनारे पर उतर गई. पुलिस ने किसी तरह उसे वहां से बाहर निकाला. उसे परिजनों के सुपुर्द किया.